पुलिस को चकमा देकर विकास दुबे के भाई ने कोर्ट में किया सरेंडर

Spread the love

पिछले हफ्ते दीप प्रकाश के लखनऊ स्थित घर पर कुर्की भी हुई थी। 19 दिसम्बर को भी दीप प्रकाश कोर्ट में हाजिर होने पहुंचा था लेकिन कोविड जांच रिपोर्ट  न होने की वजह से वह पेश नहीं हुआ और कड़ी सुरक्षा के बीच कोर्ट से चंपत हो गया। वहीं पुलिस अब आरोपी को रिमाण्ड पर लेकर पूछताछ करने की तैयारी में हैं।

कृष्णानगर कोतवाली में विनीत पाण्डेय ने उसके खिलाफ  गत वर्ष जुलाई में नीलामी में ली गई कार को जबरदस्ती लेने व धमकी देने का मुकदमा दर्ज कराया था। इसी मामले में उस पर 20 हजार रुपये इनाम घोषित हुआ था और 18 दिसम्बर को पुलिस ने उसके घर की कुर्की कर दी थी। कुर्की के बाद ही दीप प्रकाश दबाव में आ गया था और समर्पण करने के लिये अर्जी दी थी।

19 दिसम्बर को वह कचहरी आया और फिर वहां से निकल गया था। इस पर कृष्णानगर और वजीरगंज पुलिस को अफसरों ने फटकार लगायी थी। इसके बाद पुलिस दीप प्रकाश को ढूंढऩे के लिये दबिश देती रही थी। पर, वह हाथ नहीं लगा था। दीप प्रकाश अपने परिवार के साथ इन्द्रलोक कालोनी, कृष्णानगर में रह रहा था। बिकरू कांड के बाद वह फरार हो गया था।

गौरतलब है कि गत वर्ष दो जुलाई को बिकरु गांव पुलिस विकास दुबे को पकडऩे के लिए गई थी। विकास ने पुलिस टीम पर साथियों के साथ मिलकर हमला बोल दिया था। इसमें डिप्टी एसपी समेत कुल आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए थे।

विकास दुबे पर पांच लाख का इनाम घोषित किया गया था, जिसे उज्जैन से एसटीएफ  ने पकड़ा था। विकास दुबे को उज्जैन से लाते समय कानपुर में विकास ने भागने की कोशिश की थी जिसे मुठभेड़ में एसटीएफ  ने मार गिराया था।

आरोपित पर दर्ज है दो मुकदमें

Leave a Reply

Your email address will not be published.