UP : सांसद (MP) और विधायकों (एमएलए) के फोन नहीं उठाते अफसर, शासन ने जारी किए निर्देश

Spread the love

माननीयों के फोन नहीं उठाते अफसर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में अफसरों का फोन न रिसीव करना आम बात है। आलम यह है कि जब अफसर माननीयों का फोन नहीं उठाते तो आमजन तो बहुत दूर की बात है। माननीयों के फोन नहीं उठाने की शिकायत पर योगी सरकार ने सख्त निर्देश दिए हैं।

माननीयों के फोन अफसर नहीं उठाते है। हालत ये है कि चाहे सांसद (एमपी) हों या विधायक (एमएलए), बार-बार उनके फोन करने के बावजूद आमतौर पर अफसर उनका फोन रिसीव नहीं करते। वहीं मामले में शिकायत करने पर मोबाइल में उनका नंबर सेव नहीं होने आदि का बहाना बना दिया जाता है। शासन को सांसदों और विधायकों से लगातार इस तरह की शिकायतें मिल रही थीं, जिस पर सभी वरिष्ठ अफसरों को पत्र लिखकर निर्देश जारी किए गए हैं।

प्रमुख सचिव ने जारी किए निर्देश

प्रमुख सचिव, संसदीय कार्य जेपी सिंह ने सभी वरिष्ठ अफसरों को पत्र लिखकर निर्देशित किया है। इसमें कहा गया है कि फोन रिसीव न करने की शासन को लगातार शिकायतें मिल रही हैं। कई अफसर ऐसे हैं, जो सांसद और विधायकों के फोन रिसीव नहीं कर रहे। बाद में ये अफसर मोबाइल में नम्बर सेव न होने का बहाना बनाते हैं। निदेश में प्रमुख सचिव ने कहा है कि अफसर सभी सांसदों और विधायकों का नम्बर मोबाइल में सेव रखें। उनके फोन रिसीव करें, यही नहीं उनके सुझाव और अनुरोध पर प्राथमिकता से कार्यवाही करें।

यह भी पढ़े : लखनऊ: प्रेमिका को मौत के घाट उतार की खुदकुशी

25 डीएम और 4 मंडलायुक्तों को नोटिस

कुछ दिन पहले ही सरकारी फोन पर कॉल रिसीव नहीं करने वाले कई अफसरो पर कार्रवाई की गई है। सरकार ने ऐसे 25 डीएम और 4 कमिश्नर को नोटिस जारी कर जवाब मांगा। इनमें वाराणसी, प्रयागराज, बरेली और अयोध्या के कमिश्नर शामिल हैं। दरअसल कॉल रिसीव नहीं करने की शिकायतें सीएम योगी आदित्यनाथ तक पहुंच गई थीं। इसके बाद सीएम योगी के निर्देश पर सभी जिलों के डीएम और आयुक्त को फोन किया गया। पता चला कि ज्यादातर जिलों के जिलाधिकारी और कमिश्नर ने फोन ही नहीं उठाया। इसके बाद ऐसे अफसरों को नोटिस जारी करने का आदेश दिया गया।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.