यूपी बोर्ड : 12 और 10 वीं की परीक्षा रद्द , ऐसे होगा छात्रों के मूल्यांकन का फार्मूला

Spread the love

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को यूपी बोर्ड 12वीं की परीक्षा रद्द करने की घोषणा की वहीं माध्यमिक शिक्षा परिषद की ओर से इन छात्र-छात्राओं के मूल्यांकन का फार्मूला भी जारी कर दिया गया। उप मुख्यमंत्री डॉ दिनेश शर्मा ने बताया कि अब इन छात्रों का मूल्यांकन 10वीं और 11वीं कक्षाओं में उनके प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा।

उप मुख्यमंत्री ने बताया कि इण्टरमीडिएट की निरस्त हुयी परीक्षा के परीक्षाफलों को सम्बन्धित परीक्षार्थियों के कक्षा-10 की बोर्ड परीक्षा के प्राप्तांकों एवं उनके कक्षा-11 के वार्षिक परीक्षा के प्राप्तांकों के औसत के आधार पर तैयार कराया जायेगा। कक्षा-11 के वार्षिक परीक्षा के प्राप्तांक उपलब्ध नहीं होंगे तब उस स्थिति में कक्षा-12 की प्री-बोर्ड परीक्षा के प्राप्तांकों को लिया जायेगा।

इसके अलावा इंटरमीडिएट के जिन संस्थागत एवं व्यक्तिगत परीक्षार्थियों के प्राप्तांक उपलब्ध नहीं होंगे, उन्हें सामान्य रूप से प्रमोट कर दिया जायेगा तथा केवल कक्षोन्नति का प्रमाण पत्र दिया जाएगा। सबसे खास बात इंटरमीडिएट की वर्ष 2021 की परीक्षा के सभी रजिस्टर्ड परीक्षार्थियों को आगामी इण्टरमीडिएट परीक्षा में अपनी इच्छा के अनुसार एक विषय में अथवा अपने सभी विषयों की परीक्षा में सम्मिलित होकर अपने अंको में सुधार करने का अवसर प्राप्त हो सकता है।

इस तरह होगा दसवीं के छात्रों का मूल्यांकन

परीक्षाफलों को सम्बन्धित परीक्षार्थियों के कक्षा-9 की वार्षिक परीक्षा के प्राप्तांकों एवं कक्षा-10 के प्री-बोर्ड परीक्षा के प्राप्तांकों के औसत के आधार पर तैयार कराया जायेगा। हाईस्कूल के जिन संस्थागत एवं व्यक्तिगत परीक्षार्थियों के उपर्युक्त प्राप्तांक उपलब्ध नहीं होंगे, उन्हें सामान्य रूप से कक्षा-11 में प्रमोट कर दिया जायेगा। वर्ष 2021 की हाईस्कूल परीक्षा के सभी रजिस्टर्ड परीक्षार्थियों को आगामी हाईस्कूल परीक्षा में अपनी इच्छा के अनुसार, एक विषय में अथवा अपने सभी विषयों की परीक्षा में सम्मिलित होकर अपने अंको में सुधार करने का अवसर प्राप्त हो सकता है।

 

इंटरमीडिएट का ऐसे बनेगा रिजल्ट

12वीं का रिजल्ट 10वीं की बोर्ड परीक्षाओं में प्राप्त अंकों और 11वीं की वार्षिक परीक्षाओं में प्राप्त अंकों के औसत के आधार पर तैयार किया जाएगा. यदि 11वीं कक्षा की वार्षिक परीक्षा के अंक नहीं होंगे तो कक्षा 12वीं की प्री बोर्ड परीक्षाओं के अंक जोड़े जाएंगे. इसके अलावा जिन रेगुलर ओर प्राइवेट छात्रों के 11वीं के अंक और 12वीं के प्री बोर्ड के अंक नहीं होंगे उन्हें सामान्य रूप से प्रमाण पत्र देकर पास कर दिया जाएगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published.