U.P. CRIME : गांव के बाहर झोपड़ी बनाकर रह रहे बाबा की गला रेतकर हत्या

Spread the love

 U.P. CRIME :  6 वर्ष से गांव के बाहर कुटी बनाकर कर रहे थे गुजारा।

U.P. CRIME : लखनऊ ।इटौंजा थाना अंतर्गत शुक्रवार की सुबह बाबा की निर्मम तरीके से गला रेतकर हत्या की खबर से क्षेत्र में हड़कंप मच गया।

                 NEWS24ON

U.P. CRIME : परिजनों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया है।

इटौंजा थाना क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत असनहा का मजरा भिखारीपुर निवासी अम्रत लाल यादव (55)गांव के बाहर इटौंजा से कुम्भरावां रोड के किनारे ग्राम समाज की जमीन पर झोपड़ी बनाकर करीब 6 वर्षों से रह रहे थे।

परिजनों के मुताबिक लगभग 25 वर्ष पूर्व मृतक अम्रत लाल यादव ने अपनी पत्नी को मानसिक मंदित होने के कारण उन्हें छोड़ दिया था. म्रतक अपने पिता के छह पुत्र राम,विलास,परशुराम,

दशरथ,सुभाष,जगतपाल में तीसरे नम्बर के थे।शुक्रवार की सुबह करीब 8 बजे म्रतक के भतीजा उमेश यादव जब झोपड़ी के पास गया तो चाचा अम्रत लाल यादव का रक्त रंजित शव झोपड़ी के बाहर पड़ा देख वह जोर जोर से चिल्लाने लगा,

                            NEWS24ON

व सूचना घर वालों को दी।परिजनों की सूचना पर घटनास्थल पर पहुंचे इटौंजा थाना इंस्पेक्टर ने शव को पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया।

वहीं घटनास्थल पर जांच करने पहुंचे पुलिस अधीक्षक ग्रामीण ह्रदयेश कुमार तथा अपर पुलिस अधीक्षक ने क्षेत्राधिकारी नवीना शुक्ला व इंस्पेक्टर सुभाष चंद्र सरोज को हत्यारे को जल्द गिरफ्तार करने के आदेश दिये।

 भाई की तहरीर पर हत्या का मुकदमा दर्ज 

शुक्रवार की सुबह अपने भाई अम्रत लाल यादव
का कुटी के बाहर रक्त रंजित मिले शव मिलने से भाइयों समेत परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है,

वहीं भाई राम विलास यादव ने पुलिस को तहरीर देकर पास के ही शुक्लन पुरवा गांव निवासी गुड्डन मिश्रा उर्फ अजय मिश्रा पर हत्या का मुकदमा दर्ज कराया है।

वहीं पुलिस द्वारा मिली जानकारी के अनुसार हत्यारोपी घर से अभी फरार है पुलिस हत्यारोपी के तलाश में छापेमारी कर रही है।

 कुटी पर लगता था नशेड़ियों का जमावड़ा 

पुलिस अधीक्षक ह्रदयेश कुमार ने बताया कि म्रतक अम्रत लाल यादव की कुटी पर जांच के दौरान कई खाली पड़ी शराब की बोतलों सहित कई नशीली चीजें मिली है।

वही ग्रामीणों ने बताया कि अक्सर इस जगह पर शराब पीने वाले व गांजा पीने वाले नशेड़ी लोगों का जमावड़ा लगा रहता था।