UP:जेलर की निर्मम हत्या करने वाले मुन्ना बजरंगी गैंग के दो शूटर मुठभेड़ में ढेर

Spread the love

-एसटीएफ प्रयागराज की टीम ने जवाबी फायरिंग में दोनों बदमाशों को मार गिराया
-जेल अधिकारी, नेता व कारोबारियों की हत्या की फिराक में थे दोनों बदमाश

लखनऊ। माफिया मुन्ना बजरंगी एवं दिलीप मिश्रा गैंग के कुख्यात दो बदमाशों को एसटीएफ ने प्रयागराज में हुए एक साहसिक मुठभेड के दौरान मार गिराया। दोनों बदमाशों के पास से असलहा व कारतूस बरामद हुए हैं। एसटीएफ की मानें तो मारे गये दोनों बदमाशोंं के निशानेे पर आरएसएस व राजनितिक पार्टी के नेता थे।

एसटीएफ के आईजी अमिताभ यश के मुताबिक पुलिस उपाधीक्षक नवेन्दु कुमार प्रयागराज के नेतृत्व में बनी जंगल टीम के साथ हुई एक साहसिक मुठभेड़ में नैनी थाना क्षेत्र के अरैल में दोनों बदमाशों को जवाबी फायरिंग में एसटीएफ टीम ने मार गिराया। मौके से 30 एवं 9 एमएम की पिस्टल व जिन्दा कारतूस व खोखा एवं एक एक मोटरसाइकिल बरामद हुई। दोनों बदमाशों की पहचान शार्प शूटर व 50 हजार रुपया का ईनामिया अपराधी वकील पाण्डेय उर्फ राजीव पाण्डेय उर्फ राजू पुत्र सहस राम पाण्डेय व एच.एस. अमजद उर्फ अंगद उर्फ पिन्टु उर्फ डाक्टर पुत्र हफीजउल्ला निवासी रामसहायपुर जनपद भदोही के रूप में हुई है। एसटीएफ के अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ में मारेे गये दोनोंं अपराधी अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर वर्ष 2013 में माफिया मुन्ना बजरंगी व मुख्तार अंसारी के इशारे पर जनपद बनारस के तत्कालीन डिप्टी जेलर स्व. अनिल कुमार त्यागी की निर्मम हत्या दिनदहाड़े करके सनसनी फैला दी थी।

 बदमाशों के निशाने पर थे आरएसएस व कई नेेता

बीते वर्ष 17 जून को सोशल मीडिया पर एक लेटर वायरल हुआ था। लेटर ज्ञानपुर भदोही से वर्तमान विधायक विजय मिश्रा द्वारा अपने लेटर पैड पर गृहमंत्री भारत सरकार नई दिल्ली को सम्बोधित करते हुए वकील उर्फ राजीव पाण्डेय से अपनी जान को खतरा बता चुके हैं। 28 मई 2020 को माफिया दिलीप मिश्रा के कालेज से गिरफ्तार खान मुबारक गैंग का शार्प शूटर व एक लाख का ईनामिया अपराधी नीरज सिंह ने पूछताछ पर बताया था कि माफिया दिलीप मिश्रा के कहने पर वकील पाण्डेय के साथ मिलकर आरएसएस से संबंध रखने वाले नैनी निवासी सुजीत सिंह और सपा नेता नन्हें खान के दामाद समील अहमद की हत्या करने के लिए तीन बार रैकी किया जा चुका था लेकिन नीरज सिंह के पकड़ जाने के कारण हत्या रूक गयी थी। इसके अलावा झारखण्ड का कोयला माफिया व धनबाद के डिप्टी मेयर स्वर्गीय नीरज सिंह की हत्या में सामिल मुन्ना बजरंगी का शार्प शूटर अमन सिंह निवासी जनपद अम्बेडकर नगर जो वर्तमान समय में रांची के होटरवार जेल में निरूद्ध है। उसके कहने पर वकील पाण्डेय एवं अमजद अपने साथियों के साथ मिल कर रांची के होटरवार जेल के किसी अधिकारी की हत्या कर सनसनी फैलाना चाहते थे जिससे अमन सिंह का दबदबा जेल में हो जाता। लेकिन एसटीएफ टीम ने 11 फरवरी 2021 को इनके साथी अभिनव प्रताप सिंह उर्फ वरूण निवासी महाराजगंज जनपद अयोध्या के पकड़ जाने के कारण यह घटना रूक गयी। इस बात की पुष्टि अभिनव सिंह ने अपने बयान में भी किया था। एसटीएफ की मानें तो एनकाउंटर में ढेर होने वाले दोनों बदमाश किसी सम्भ्रान्त व राजनैतिक व्यक्ति की हत्या के फिराक में थे।

उत्तर प्रदेश और झारखण्ड में दर्ज हैं कई मुकदमे

अरैल के गंगा कछार में बुधवार की देर रात में हुई मुठभेड़ में मारे गए वकील पाण्डेय के ऊपर उत्तर प्रदेश और झारखंड के कई जिलों में दो दर्जन से अधिक अपराधिक मुकदमे दर्ज हैं। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में चार, भदोही में छह, वाराणसी में एक, मीरजापुर में तीन, प्रयागराज में एक, झारखंड के विभिन्न जिलों में 5 मुकदमे दर्ज हैं। इनमें से 2013 में वाराणसी के डिप्टी जेलर अनिल त्यागी की हत्या का मुकदमा सबसे चर्चित रहा है। अमजद उर्फ पिंटू पर झारखंड में पांच, उत्तर प्रदेश के मीरजापुर जिले में 11 , प्रयागराज में पांच, भदोही में दो मुकदमे दर्ज हैं। इनमें से हत्या, हत्या के प्रयास और रंगदारी के मामले अधिक है। दोनों अधिकांश मामलों में साथ रहे थे। उप्र के साथ ही झारखंड पुलिस को भी इनकी तलाश थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.