प्राचीनतम अष्टधातु मूर्ति बेचने वाले सरगना समेत तीन गिरफ्तार

Spread the love

एसटीएफ ने तीनों आरोपियों को जनपद बाराबंकी से दबोचा


लखनऊ। अष्टधातु की प्राचीनतम मूर्ति बताकर धोखाधड़ी कर बेचने वाले गिरोह के सरगना समेत तीन सदस्यों को एसटीएफ ने जनपद बाराबंकी से गिरफ्तार किया है।
एसटीएफ के मुताबिक मुखबिर से सूचना मिली थी कि अष्टधातु की प्राचीन मूर्ति बेचने के लिए गिरोह के सदस्य जनपद बाराबंकी के सफदरगंज आने वाले हैं।

एसटीएफ टीम मुखबिर द्वारा बताए गये स्थान पर पहुंचकर घेराबंदी कर रखी थी। इसी दौरान दो बाइक पर तीन व्यक्ति आते दिखाई दिये। जिन्हें रोकने का इशारा किया गया तो वह भागने लगे। इस दौरान आवश्यक बल प्रयोग करते हुए दोनों आरोपियों को दबोच लिया गया।

मोबाइल फोन व बाइक बरामद

पूछताछ में आरोपियों ने अपना नाम रामनरेश, संतोष कुमार व राघवेन्द्र प्रताप सिंह निवासी जनपद गोण्डा बताया है। गिरफ्तार आरोपियों के कब्जे से एक गौतमबुद्ध की धातु की मूर्ति वजनी 7.275 कि.ग्राम, जेम टेस्टिंग लैब महानगर लखनऊ की कूटरचित टेस्टिंग रिपोर्ट, मोबाइल फोन व दो बाइक बरामद हुई है।

पूछताछ पर आरोपियों ने बताया कि हम तीनों लोगों का एक संगठित गिरोह है। वजनदार मूर्तिया को इधर-उधर से खरीदकर फर्जी टैस्टिंग लैब की मुहर लगाकर कस्टमर को बेच देते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.