बाहुबली मुख्तार के गैंग पर तीसरा वार  

News24On हसन राना

लखनऊ में गैंगवार में मारे गये पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकाण्ड कोई पहली घटना नहीं है। इससे पहले भी बाहुबली मुख्तार अंसारी के करीबी मुन्ना बजरंगी के साले पुष्पजीत और उसके एक साथी संजय मिश्रा को 5 मार्च 2016 को विकास नगर थाना क्षेत्र में बाइक सवार बदमाशों गोलियों से भून डाला था।

वहीं एक दिसंबर 2017 को  गोमतीनगर में ग्वारी पुल पर माफिया मुन्ना बजरंगी का राईट हैंड माने जाने वाले तारिक को उनकी फार्रच्युनर कार में ही शूटरों ने गोलियों से भून डाला था।

मामले में पुलिस और एसटीएफ ने केस दर्ज कर तफ्तीश की लेकिन अभी तक न तो शूटरों का पता चला और न ही साजिशकर्ताओं का। वहीं वर्ष 2018 जुलाई माह में मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी गई।

News24on
News24on

मुन्ना बजरंगी ने माफिया डॉन मुख्तार अंसारी के इशारे पर 29 नवंबर 2005 को गाजीपुर के भाजपा विधायक कृष्णानंद राय पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या कर दी थी। गैंगवार में सात लोगों की मौत हुई थी। कृष्णानंद राय की हत्या के बाद फरार हुआ मुन्ना बजरंगी  वर्ष 2009 में नाटकीय ढंग से मुंबई से गिरफ्तार हुआ था।

वहीं हत्याकाण्ड मामले में 3 जुलाई 2019 को गवाहों के मुकरने पर अदालत ने मुख्तार अंसारी और छह अन्य को बरी कर दिया था। हालांकि मौजूदा समय में मुख्तार अंसारी पंजाब के जेल में निरूद्घ हैं।

Mukhtar Ansari मुख्तार अंसारी के अरमानों पर सुप्रीम कोर्ट ने फेरा पानी उत्तर प्रदेश के बांदा जेल में भेजने का आदेश

सियासत और अण्डरवर्ड के तालमेल से बच निकलते हैं सफेदपोश

पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की गैंगवार में हत्या के पीछे पूर्वांचल के बाहुबली पूर्व सांसद समेत कई अन्य सफेदपोशों का नाम सामने आ रहा है। बताया जा रहा है कि सियासत और अण्डरवर्ड की तालमेल से अजीत की हत्या की गई है। अजीत पर डेढ़ दर्जन से अधिक हत्या समेत मुकदमे दर्ज थे। वह मुख्तार अंसारी का करीबी भी बताया जा रहा है।

News24on
News24on

वहीं गैंगवार में गोली से घायल शूटर का इलाज से लेकर हत्याकाण्ड की साजिश में पूर्व सांसद का हाथ होना बताया जा रहा है। फिलहाल पुलिस कड़ी से कड़ी जोड़कर हत्याकाण्ड का खुलासा करने में जुटी है।

वहीं जानकारों की मानें तो यदि शूटर एनकाउंटर में नहीं मारे जाते और सही खुलासा हुआ तो कई सफेदफोशों के दामन दागदार होने की पूरी उम्मीद है।