डॉक्टर व उनकी पत्नी से गन्दी बात कर रंगदारी वसूलने वाला सिरफिरा चढ़ा हत्थे

Spread the love

लखनऊ। डाक्टर को फोन कर कई दिनों से पत्नी को तलाक देने और धमका कर रुपयों की मांग कर रहे आरोपी को ठाकुरगंज पुलिस ने दबोच लिया है।

वहीं, जिन खातों में रुपये भेजे गए थे उनका हिस्ट्रीशीटर और सआदतगंज में मारे गए श्रवण साहू से कोई संबंध नहीं मिला है।

फोन पर बहस के बाद करने लगा था परेशान

ठाकुरगंज बरावनकला निवासी डॉक्टर के नम्बर पर कई दिनों से अन्जान नम्बर से फोन कर अभद्रता की जा रही थी।

आरोपी ने डॉक्टर के साथ उनकी पत्नी के नम्बर पर भी अभद्र मैसेज भेजे थे। यह आरोप लगाते हुए डॉक्टर ने ठाकुरगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया था। जिसके आधार पर पुलिस छानबीन कर रही थी।

बैंक से मिली डिटेल के आधार पर अकील और श्रवण साहू के पते पर पुलिस पहुंची थी। जहां पता चला कि मजदूरी करने वाले युवक ने अकील के खाते में पांच हजार और श्रवण के खाते में दो हजार रुपये मंगाए थे।

इस आधार पर बस्ती निवासी कमरूल हुदा को दबोच लिया गया। इंस्पेक्टर ठाकुरगंज ने बताया कि बस्ती का रहने वाला मजदूर कमरूल हुदा मजदूरी का काम करता है। जो अपनी पत्नी और बच्चों के साथ मडिय़ांव में झोपड़-पट्टी बनाकर रहता है।

जिसका कुछ माह पहले फोन खराब हो गया था। जिस पर दुकानदार ने एक पुराना फोन मजदूर को दिया था।

जिसमें डाक्टर का नम्बर था। जिस पर मजदूर का अचानक फोन डाक्टर के नम्बर पर लग गया। जिस पर दोनों के बीच जमकर बहस हो गयी। जिसके बाद मजदूर उन्हें रोज-रोज फोन मिलाकर परेशान करने लगा।

इस दौरान डॉक्टर की पत्नी ने फोन पर उसे समझाने का प्रयास किया तो उनसे भी अभद्रता करने लगा।

जिससे पीछा छुड़ाने के लिये डाक्टर ने उसके बताये गये ई-वॉलट के नम्बर पर करीब सात हजार रुपये भेज दिये। जो इतफ्ताक से श्रवण कुमार और अकील के नाम के निकले।

हिस्ट्रीशीटर अकील अंसारी से संबंध की नहीं हुई पुष्टि

इंस्पेक्टर ने बताया कि सआदतगंज में मारे गए श्रवण और हरदोई जेल में बंद अकील से मजदूर का कोई संबंध नहीं मिला है।

जिन ई-वॉलट में आरोपी मजदूर ने रुपये मगाएं थे। जो इतफ्ताक से उनका भी नाम श्रवण व अकील था।

इसके बाद भी जब मजदूर ने तंग करना बंद नहीं किया तो उन्होंने बीती छह नवम्बर को थाने में मुकदमा दर्ज कराया था।