अलविदा-2021 UPSTF: पूरे साल भर अपराधियों पर भारी रहा एसटीएफ,कुख्यात बदमाशों को किया ढेर

Spread the love

जघंन्य वारदातों को घटित होने से पहले रोकने में मिली सफलता
-नशीले पदार्थ के सौदागरों को सलाखों के पीछे भेज युवा पीढ़ी को बचाया

लखनऊ । उत्तर प्रदेश स्पेशल टास्क फोर्स (यूपी एसटीएफ) ने इनामिया कुख्यात बदमाशों को जहां एक ओर एनकाउंटर में ढेर करते हुए कई जघन्य वारदातों को रोकने में कामयाबी हासिल की है तो वहीं दूसरी ओर फर्जी शिक्षकों, साइबर अपराधियों, ठगबाजों व मादक पदार्थों की तस्करी में लिप्त अपराधियों की धर-पकड़ कर अपने कार्य को बाखूबी से अंजाम दिया।

जघंन्य वारदातों को घटित होने से पहले रोकने में मिली सफलता

यूपी एसटीएफ प्रदेश में कानून का राज बुलंद करने के लिए लिए पूरे साल जुटी रही। धर पकड़ के दौरान कई बदमाश जवाबी कार्रवाई में सरकारी गोली के शिकार भी हुए।

इसके अलावा पांच-पांच लाख के इनामी महाठग राशिद नसीम व आसिफ नसीम पर की धड़पकड़ में अहम भूमिका निभाई।

हालांकि सैकड़ों लोगों की गाढ़ी कमाई पर डाका डालने वाले महाठग के भाई आसिफ नसीम को लखनऊ कमिश्नरेट की गोमतीनगर पुलिस ने प्रयागराज से गिरफ्तार किया था।

वहीं एसटीएफ ने गिरोह के इनामी सदस्यों समेत दर्जनभर से अधिक पदाधिकारियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है।

इसके साथ ही नशीले पदार्थों के तस्करों और सौदागरों को पकड़कर करोड़ों की कीमत का नशीला पदार्थ बरामद कर युवा पीढ़ी को नशे की आगोश में जाने से बचाया। वहीं हत्या, लूट व डकैती जैसे कई जघन्य अपराधों को घटित होने से पूर्व ही रोकने में सफलता हासिल की है।

यूपी टीईटी पेपर लीक रहा सुर्खियों में

28 नवंबर यूपीटीईटी परीक्षा को आयोजित थी। प्रथम पाली की परीक्षा दी जा रही थी। कड़ी सुरक्षा के बावजूद और इंतजामों के बावजूद परीक्षा में सेंधमारी के बाद सरकार ने दोनों परीक्षाएं (पेपर-1 और 2) रद्द कर दी गई।

मामले में स्पेशल टास्ट फोर्स ने धड़पकड़ कर करीब तीन दर्जन से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया। वहीं मामले में पेपर छापने वाले प्रिंटिंग प्रेस के मालिक राय अनूप प्रसाद को गिरफ्तार किया गया।

इसके अलावा ठेका देने के मामले में तत्कालीन सचिव नियामक परीक्षा प्राधिकारी संजय उपाध्याय को भी गिरफ्तार किया गया। वहीं मामले में कई अन्य रसूखदार लोगों की संलिप्ता सामाने आयी है। जिनकी कुंडली खंगाली जा रही है।

50 हजार से लेकर साढ़े पांच लाख के इनामी बदमाश ढेर

एसटीएफ ने 30 अक्टूबर शनिवार सुबह चित्रकूट में एक एनकाउंटर में 5.5 लाख के इनामी डकैत गोरी यादव को मार गिराया।

डकैत गौरी यादव पर 5 लाख के इनाम की घोषणा उत्तर प्रदेश में की गई थी जबकि 50 हजार रुपये के इनाम का मध्य प्रदेश सरकार द्वारा की गई थी। बदमाश के पास से एके -47, सेमी-ऑटोमैटिक राइफल और एक 12 बोर की गन बरामद हुई थी।

 

वहीं चार मार्च को प्रयागराज में एसटीएफ ने मुन्ना बजरंगी गैंग के 50 हजार के इनामी दो शार्प शूटर वकील

पाण्डेय व अमजद को मार गिराया। 28 अक्टूबर को एसटीएफ ने मुख्तार अंसारी के शूटर अलीशेर उर्फ डॉक्टर और उसके साथी कामरान उर्फ बन्नू निवासी आजमगढ़ को लखनऊ के मडिय़ांव फैजुल्लागंज में बंधा रोड पर मुठभेड़ में ढेर कर दिया। दोनों लखनऊ में व्यापारी की हत्या करने की फिराक में थे।

मुठभेड़ में मारे गये अलीशेर ने 22 सितंबर को झारखंड में भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के जिला अध्यक्ष जीतराम मुंडा की हत्या कर दी थी।

उस पर एक लाख रुपये इनाम घोषित था। बदमाशों के पास कार्बाइन, दो पिस्टल, तमंचा और भारी मात्रा में कारतूस थे। इसके साथ ही एसटीएफ ने कई कुख्यात बदमाशों को या तो सलाखों के पीछे पहुंचाया या फिर जवाबी फायरिंग में मार गिराया।