UP: सचिवालय का अफसर छेड़छाड़ के मामले में 12 दिन बाद गिरफ्तार, वीडियो वायरल होने के बाद जागी पुलिस

Spread the love

संविदा कर्मी युवती ने अनुसचिव पर लगाया यौन शोषण का आरोप
वायरल वीडियो में अश्लील हरकत करते हुए नजर आया आरोपी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सचिवालय में संविदा कर्मी युवती ने अनुसचिव पर यौन शोषण का आरोप लगाते हुए हुसैनगंज कोतवाली में केस दर्ज कराया है।

मामले में एक वीडियो वायरल हुआ है। जिसमें पीडि़ता से जबरन छेड़छाड़ कर दुष्कर्म करने का प्रयास किया जा रहा है।

वीडियो इंटरनेट मीडिया पर वायरल होने के बाद युवती के रिपोर्ट दर्ज कराने के 12 दिन बाद पुलिस ने इच्छा राम यादव को गिरफ्तार किया है।

 

हुसैनगंज निवासी युवती के मुताबिक वह बापू भवन में चतुर्थ तल पर रुम नम्बर-420 सेक्शन-04 में वर्ष 2013 से कम्प्यूटर आपरेटर के पद पर संविदा कर्मी है। आरोप है कि अनुसचिव के पद पर इच्छाराम यादव सेक्शन इंचार्ज हैं।

वह उसे वर्ष 2018 से प्रताडि़त कर भद्दे व अश्लील कमेन्ट करते चले आ रहे है। करीब एक माह पूर्व आरोपी इच्छाराम ने महिला शौचालय में आने के लिए कहा था जिसका विरोध किया तो संविदा की नौकरी से निकाल देने की धमकी देने लगे।

युवती का आरोप है कि आफिस में काम के दौरान बगल में आकर बैठकर छेड़छाड़ करने और गलत काम करने के नियत से दबाव बनाने व धमकी देकर उसे लगातार प्रताडि़त किया जा रहा है।

हां मैं वीडियो में हूं, आप को क्या लेना देना है

इस वीडियो के बाबत जब इच्छाराम यादव से पक्ष पूछा गया तो उसने जवाब दिया कि पुलिस से पूछो, हां मैं वीडियो में हूं।

आप को क्या लेना देना है। संविदाकर्मी महिला ने 29 अक्टूबर को हुसैनगंज थाने में शिकायत दर्ज कराई थी।

एडीसीपी मध्य राघवेन्द्र कुमार मिश्रा के मुताबिक मामले में हुसैनगंज कोतवाली में 29 अक्टूबर को केस दर्ज कराया गया है। आरोपी को गिरफ़्तार कर लिया गया है।

आरोपी को गिरफ्तार करने में 12 दिन का लगा समय

बापू भवन में अल्पसंख्यक कल्याण विभाग में तैनात अनु सचिव इच्छाराम यादव ने बीते दिनों संविदाकर्मी युवती से लगातार छेड़छाड़ एवं अभद्रता की।

इसी बीच वायरल वीडियो में इच्छाराम महिला कर्मी से छेड़छाड़ के बाद अपने मुह में लगी युवती की लिपस्टिक को पोंछ रहा है।

NEWS24ON
NEWS24ON

इसके बाद संविदाकर्मी ने परेशान होकर इच्छाराम यादव की अश्लील हरकतों का वीडियो बनाकर स्वयं ही वायरल कर दिया।

इसके बाद महिला ने साक्ष्य के तौर पर इच्छाराम के तमाम अश्लील वीडियो साक्ष्य के रूप में पेश कर लखनऊ के हुसैनगंज थाने में तहरीर दी।

जिस पर केस दर्ज करने के बाद भी आनाकानी करने वाली पुलिस को इच्छाराम यादव को गिरफ्तार करने में 12 दिन का समय लगा।