Oxygen Crisis in UP: ऑक्सीजन का आपातकाल, राजधानी समेत अन्य महानगरों में सांसों पर गहरा संकट

Spread the love

लखनऊ, झांसी, प्रयागराज, कानपुर, वाराणसी, गोंडा तथा मेरठ में ऑक्सीजन की भारी किल्लत

लखनऊ।  सूबे की योगी आदित्यनाथ सरकार के तमाम बड़े आश्वासन के बाद भी सूबे की राजधानी लखनऊ समेत अन्य महानगरों के साथ की कस्बों में भी आक्सीजन की भारी किल्लत हैं।

इतना ही नहीं प्रदेश में टैक्नीशियन्स के संक्रमित होने के कारण अब आरटीपीसीआर टेस्ट भी नहीं हो रहा है।

योगी आदित्यनाथ सरकार के तमाम बड़े आश्वासन के बाद भी महानगर के साथ ही कस्बों में भी ऑक्सीजन की भारी किल्लत है।

लखनऊ, झांसी, प्रयागराज, कानपुर, वाराणसी, गोंडा तथा मेरठ में ऑक्सीजन की भारी किल्लत है। अलीगढ़ और कन्नौज में मरीज दम तोड़ रहे हैं।

हजारों एंबुलेंस भी बिना ऑक्सीजन के दौड़ रही हैं। प्रदेश के निजी अस्पताल में ऑक्सीजन की भारी कमी है। प्रयागराज के कई अस्पतालों में कल से ऑक्सीजन नही है।

प्रयागराज के साथ कौशांबी व नैनी में डॉक्टर ऑक्सीजन के लिए परेशान हैं। यहां पर प्राइवेट अस्पताल से मरीज जिला अस्पताल जा रहे हैं।

गौरतलब हो कि कोरोना वायरस संक्रमण के नए स्ट्रेन के बेतहाशा गति पकडऩे के बीच में लोगों की तेजी से सांसे उखड़ रही हैं। आक्सीजन ने मिलने की वजह से अब तक कई लोगों की मौत भी हो चुकी है।

मेयो लखनऊ में भी ऑक्सीजन खत्म

लखनऊ के मेयो हॉस्पिटल में भी ऑक्सीजन समाप्त हो गई है। यहां पर अस्पताल प्रबंधन ने गेट पर नोटिस भी चिपका दिया है।

बुधवार को लखनऊ के अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी हो गई है।

मेयो हॉस्पिटल से कोरोना संक्रमितों को लौटाया जा रहा है।

अब तो हॉस्पिटल में भतीज़् अन्य मरीजों की भी जान संकट में है। मेयो हॉस्पिटल प्रबंधन ने ऑक्सीजन खत्म होने के कारण पल्ला झाड़ लिया है।

सीतापुर में कालाबाजारी

सीतापुर के जिला अस्पताल के साथ ही निजी अस्पतालों में भी ऑक्सीजन की भारी किल्लत है।

यहां पर ऑक्सीजन न मिलने से मरीजों की मौत हो रही है।

जिले में ऑक्सीजन की कालाबाजारी भी हो रही है। 300 रुपये का छोटा वाला सिलेंडर 600 रुपये में बेचा जा रहा है। यहां पर 600 रुपये का ऑक्सीजन सिलेंडर 1200 रुपये में बेचा जा रहा है।

इतना ही नहींं कई जनपदों मेें 10-14 हजार तक सलेंडर बेचे जाने के भी कई मामले आये हैं।

कानपुर में भी ऑक्सीजन की किल्लत

कानपुर में भी ऑक्सीजन की किल्लत बरकरार है। यहां पर अस्पताल वालों ने तीमारदारों को ही खाली सिलेंडर थमा दिया है।

उनसे बोला गया है कि बोला गया है कि जाकर खुद ही ऑक्सीजन सिलेंडर भराओ।

यहां पर अस्पताल वालों ने अपने हाथ खड़े कर दिए हैं। तीमारदार यहां पर ऑक्सीजन के लिए दर-दर भटक रहे हैं।

तीमारदार खाली सिलेंडर लेकर स्कूटी व बाइक से घूम रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.