राम मंदिर के निर्माण में नई परेशानी

लखनऊ. अयोध्या में शुरू राम मंदिर निर्माण में नई परेशानी सामने आ गई है. मंगलवार को सूत्रों ने बताया कि मंदिर की नींव के नीचे सरयू नदी की धार मिली है, जिसकी वजह से निर्माणकार्य में मुश्किलें आ सकती हैं. इस मामले को लेकर निर्माण कमेटी ने मंगलवार को चर्चा की. वहीं, मंदिर ट्रस्ट निर्माण के लिए इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) से मदद की गुहार लगाई है.

गौरतलब है कि कुछ दिनों पहले मंदिर निर्माण में चल रहे खंभों से जुड़े काम में भी दिक्कतों का सामना किया था.

news24on

प्रधानमंत्री मोदी के पूर्व मुख्य सचिव नृपेंद्र मिश्रा की अगुआई में बनी निर्माण समिति ने मंगलवार को बैठक की. सूत्रों ने बताया कि इस मीटिंग में तय किया गया है कि नींव के नीचे सरयू नदी की धारा मिलने के कारण मंदिर के लिए पहले से तैयार मॉडल सही नहीं है. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र में मौजूद सूत्रों ने बताया कि इस काम के लिए आईआईटी से मदद की अपील की गई है.

मंदिर का निर्माण 2023 में पूरा होना था

तय समय अनुसार मंदिर का निर्माण 2023 में पूरा होना है. सूत्रों ने बताया कि फिलहाल समिति दो तरीकों पर गौर कर रही है. पहला राफ्ट को सहायता देने के लिए वाइब्रो पत्थर का इस्तेमाल और दूसरा इंजीनियरिंग मिश्रण मिलाकर मिट्टी की क्वालिटी और पकड़ को बेहतर बनाया जाए.

news24on

यहां मंदिर बनाए जाने के लिए 1200 खंभों की ड्राइंग तैयार की गई थी. हालांकि, यह डिजाइन प्लान के अनुसार, सफल होती नहीं दिख रही है. दरअसल, मंदिर की बुनियाद के लिए खंभों की टेस्टिंग की गई थी. इस दौरान कुछ खंभों को 125 फीट गहराई में डाला. इनकी जांच करने के लिए करीब 30 दिनों तक छोड़ा गया. बाद में इस पर 700 टन का वजन डाला गया और भूकंप के झटके दिए गए, तो ये खंभे अपनी जगह से हिल गए और मुड़ भी गए.

Leave a Reply

Your email address will not be published.