Madarsa teachers : शिक्षकों ने 52 माह का बकाया वेतन को लेकर राजधानी लखनऊ में किया “प्रदर्शन”, मुख्यमंत्री से लगाई न्याय की गुहार

Madarsa teachers : ने चार सूत्रीय मांग को लेकर मुख्यमंत्री को दिया ज्ञापन,साढ़े चार साल से मानदेय न मिलने पर शिक्षक झेल रहे भुखमरी का दंश

Madarsa teachers : ने मांग पूरी न होने पर आमरण अनशन की चेतावनी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मदरसा शिक्षकों को बीते 52 महीनों से मानदेय न मिलने समेत चार सूत्रीय मांगों को लेकर हजरतगंज स्थित जीपीओ पार्क के गांधी प्रतिमा पर एकत्र होकर एक दिवसीय सांकेतिक धरना प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री को संबोधित करते हुए ज्ञापन दिया।

Madrasa teachers :
news24on

मदरसा आधुनिक शिक्षक एकता समिति उत्तर प्रदेश के तत्वाधान में सैकड़ों की तादात में शिक्षकों के जीपीओ स्थित गांधी प्रतिमा पर पहुंचे पर पुलिस और प्रशासन में खलबली मच गई।

आनन-फानन जिम्मेदार अफसरों ने ज्ञापन लेकर सभी को पुलिस वाहन में भरकर धरना स्थल ईको गार्डन पार्क भेज दिया। यहां पर सभी शिक्षकों ने अपनी मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। समिति के प्रदेश अध्यक्ष व महासचिव ने शीघ्र मांग पूरी न होने पर आमरण अनशन की चेतावनी दी है।

मदरसा आधुनिक शिक्षक एकता समिति उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष अशरफ अली उर्फ सिकंदर बाबा के मुताबिक मदरसा आधुनिकीकरण योजना अंतर्गत कार्यरत मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षकों को केंद्र सरकार द्वारा पिछले 52 महीने से केन्द्रांश (मानदेय) का भुगतान नहीं किया गया है।

Madrasa teachers :
news24on

जिसके कारण मदरसा आधुनिकीकरण शिक्षक गंभीर आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। मदरसा आधुनिकीकरण की इस योजना में उत्तर प्रदेश में लगभग 25000 आधुनिक शिक्षक कार्यरत हैं । जिनमें स्नातक शिक्षकों को केंद्र सरकार द्वारा 6000 और प्रदेश सरकार बतौर राज्यांश 2000 मानदेय के रूप में दिया जाता है।

वहीं परास्नातक/बीएड शिक्षकों को केंद्र सरकार द्वारा 12000 एवं राज्य सरकार द्वारा अतिरिक्त राज्यांश 3000 रुपये प्रतिमाह मानदेय देने का प्रावधान है। लेकिन केंद्र सरकार द्वारा पिछले 52 महीने से मानदेय का भुगतान नहीं किया गया है। जिसके कारण शिक्षकों की स्थिति अत्यन्त दयनीय हो गई है।

Madrasa teachers :
news24on

शिक्षक भुखमरी की जि़ंदगी बिताने पर मजबूर है। सैकड़ों शिक्षकों की हार्ट अटैक एवं इलाज के अभाव में मौत हो चुकी है । केन्द्र सरकार से काफी गुहार लगाई जा चुकी है। लेकिन बीते 52 महीनों से केन्द्राश नहीं दिया गया।

मदरसा आधुनिक शिक्षक एकता समिति उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष अशरफ अली उर्फ सिकंदर बाबा व प्रदेश महासचिव सुनील कुमार सिंह ने बताया कि यदि शीघ्र ही हमारी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो शिक्षक अगली बार आमरण अनशन करने पर मजबूर होंगे साथ जिसकी पूरी जिम्मेदारी केंद्र व राज्य सरकार की होगी।

मदरसा शिक्षकों की ये हैं प्रमुख मांगें

मदरसा आधुनिक शिक्षक एकता समिति के प्रदेश महासचिव सुनील कुमार सिंह ने बताया कि मदरसा शिक्षकों की चार प्रमुख मांग हैं। इनमें बकाया मानदेय भुगतान, मानदेय में बढ़ोतरी, प्रतिमाह मानदेय भुगतान एवं सेवा नियमावली बनाकर स्थायीकरण किया जाए।

Madrasa teachers :
news24on

उक्त संदर्भ में चार सूत्रीय मांगों को लेकर मदरसा आधुनिक शिक्षक एकता समिति उत्तर प्रदेश के तत्वाधान में मंगलवार को लखनऊ के हजरतगंज स्थित जीपीओ पार्क गांधी प्रतिमा के पास एकत्र होकर पर सांकेतिक धरना प्रदर्शन कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को संबोधित एक चार सूत्रीय मांगपत्र /ज्ञापन दिया गया।

दो विभागों की फेर में अटका शिक्षकों का मानदेय

मदरसा आधुनिक शिक्षक एकता समिति उत्तर प्रदेश के प्रदेश अध्यक्ष अशरफ अली उर्फ सिकंदर बाबा ने बताया कि मदरसों में दीनी तालीम के साथ ही बच्चों को आधुनिक शिक्षा देने के लिए तत्कालीन प्रधानमंत्री स्व.अटल बिहारी बाजपेई ने साल 1993 में योजनान्र्गत एक मदरसे में तीन शिक्षकों को आधुनिक विषय पढ़ाने के लिए नियुक्ति किए जाने का प्रावधान किया था।

राज्य सरकार अपना अंशदान दो तीन माह के बाद तो जारी कर देती है। लेकिन केन्द्र सरकार से मिलने वाला केन्द्रांश वर्ष 2017 से शिक्षकों को नहीं मिल पाया है। मदरसा योजनान्र्गत पूरे देश में शिक्षकों की संख्या भारी तादात में है।

Madrasa teachers :
news24on

केवल उत्तर प्रदेश में 25 हजार शिक्षक मदरसे में पढ़ा रहे हैं। नियमित मानदेय न मिल पाने से शिक्षक व उनका परिवार भुखमरी से गुजर रहा है। कई शिक्षक मदरसों में पढ़ाने के बाद सब्जी के ठेले तक लगाने को मजबूर हैं। प्रदेश अध्यक्ष अशरफ अली का कहना है कि योजना (एसपीक्यूएम/एसपीईएमएम) को एमएचआरडी से गत वर्ष अल्पसंख्यक मंत्रालय में कर दिया गया है।

बजट दोनों विभागों के बीच में अटका हुआ है। वहीं दोनों विभागों के प्रशासनिक अधिकारी जिम्मेदारी से अपना-अपना पल्ला झाड़ रहे हैं।

One thought on “Madarsa teachers : शिक्षकों ने 52 माह का बकाया वेतन को लेकर राजधानी लखनऊ में किया “प्रदर्शन”, मुख्यमंत्री से लगाई न्याय की गुहार

Comments are closed.