लखनऊ ठाकुरगंज पांच जनवरी को दिनदहाड़े  हत्याकाण्ड की वारदात का पुलिस ने किया खुलासा,मुख्य आरोपी समेत दो गिरफ्तार

Spread the love

लखनऊ। ठाकुरगंज पुलिस ने पांच जनवरी को दिनदहाड़े इलाके में हुई हत्याकाण्ड की वारदात का खुलासा करते हुए मुख्य आरोपी समेत दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि दो आरोपी अभी भी फरार है। जिनकी तलाश में पुलिस दबिश दे रही है। आरोपियों के पास से आलाकत्ल पिस्टल बरामद हुआ है। पुलिस ने हत्या की वजह प्लाटिंग के काम में रुपयों के लेनदेन होना बताया है।

वहीं सूत्रों की मानें तो वर्चस्व को लेकर गैंगवार में हत्या हुई है। मामले में आगे भी जघन्य वारदात होनी की आशंका है।

डीसीपी पश्चिम देवेश कुमार पाण्डेय के मुताबिक पांच जनवरी को ठाकुरगंज थाना क्षेत्र स्थित रिंग रोड के पास प्लाटिंग के रुपये के लेनदेन को लेकर विपिन विश्वकर्मा (24) निवासी दुबग्गा मधोपुर को गोली मार कर हत्या कर दी गई थी। मामले में केस दर्ज कर तफ्तीश की जा रही थी। सर्विलांस व मुखबिर तंत्र के माध्यम से सुशील कुमार व रिषभ यादव निवासीगण ठाकुरगंज को रिंग रोड के पास से गिरफ्तार कर लिया गया।

वहीं प्रकाश में आये दो आरोपी शुभम यादव व पवन यादव निवासीगण ठाकुरगंज फरार है। जिनकी तलाश में दबिश दी जा रही है। चौक एसीपी आईपी सिंह ने बताया कि विवाद के बाद रिषभ ने विपिन विश्वकर्मा को दो गोली मारी थी। जिससे उसकी मौत हो गई थी।

इंस्पेक्टर राजकुमार की मानें तो दोनों पक्ष एक साथ काम करते थे। प्लाटिंग के खरीद-फरोख्त को लेकर विपिन और रिषभ में मनमुटाव हो गया था। जिसके चलते दोनों कुछ दिनों से अलग-अलग प्लाटिंग करने लगे थे। इसी दौरान दो जनवरी को विपिन और रिषभ के साथ काम करने वाले युवकों में मोबाइल छीनने के मामले को लेकर विवाद हो गया था। रिषभ ने विवाद निपटाने के बहाने उसे ऑफिस बुलाया था, जहां झगड़ा शुरू हो गया।

2017 में एक हत्या की वारदात को दिया था अंजाम

दोनों ओर से पथराव हुआ। जिसमें रिषभ ने विपिन के सिर पर दो गोलियां मारीं और हवाई फायरिंग करते हुए साथियों संग भाग निकला था। बताया जा रहा है कि मुख्य हत्यारोपी रिषभ ने वर्ष 2017 में तालकटोरा इलाके में एक हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। इसके बाद उसका क्षेत्र में दबदबा बन गया था। विपिन के बड़े भाई नितिन ने सुशील, रिषभ समेत चार लोगों के खिलाफ हत्या की एफआईआर कराई थी।

मामला ठंडा होने पर गैंगवार की आशंका

विपिन मोहनलालगंज के सांसद कौशल किशोर के बेटे के साथ प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करता था। उसकी हत्या की खबर सुनकर सांसद पुत्र भी ट्रॉमा सेंटर पहुंचे थे। मृतक विपिन का भाई नितिन निजी कंपनी में नौकरी करता है। सूत्रों की मानें तो विपिन के पास से घटना वाले दिन कई कारतूस बरामद हुई थी जबकि उसके साथियों ने असलहा गायब कर दिया था। आशंका जतायी जा रही है कि मामला ठंडा होने के बाद विपिन का गैंग के सदस्य बड़ी वारदात को अंजाम देंगे। फिलहाल पुलिस मामले में छानबीन कर अन्य संलिप्त आरोपियों की तलाश में जुटी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.