Lucknow में STF के ब‍िछाए जाल में फंसे दो जालसाज-ग‍िरफ्तार, जान‍िए क्‍या है पूरा मामला

Spread the love

एएसपी ने बताया कि यह लोग नौकरी के नाम पर लोगों को ठगते हैं। चतुर्थश्रेणी कर्मचारी के लिए 70 हजार रुपये तीन से पांच लाख रुपये बाबू के लिए घूस लेते हैं। अबतक 15-20 लोगों के साथ ठगी कर चुके हैं।

लखनऊ, हेलो, आप अंकित बोल रहे हैं। मैं बेरोजगार हूं मुझे नौकरी की सख्त जरूरत है। आपका नंबर एक मेरे मिलने वाले ने दिया था। उसने कहा कि रेलवे और आइटीबीपी में वैकेंसी निकली है। हमारे पास और भी लोग हैं। यह बातें बुधवार को एसटीएफ के एएसपी अवनीश्वर चंद्र श्रीवास्तव और उनकी टीम के लोगों ने नौकरी के नाम पर बेरोजगारों को ठगने वाले अंकित निवासी कानपुर बर्रा से की। उत्तर में ठग अंकित ने कहा हां ठीक है काम हो जाएगा। मैं बताता हूं आपको फोन करके रुपयों का इंतजाम कर लीजिए। एएसपी और उनकी टीम जालसाज को बातों में फंसाए रही। इसके बाद लोकेशन के आधार पर टीम तो आनन फानन भेजा। टीम ने अंकित और उसके साथी ब्रजेंद्र तिवारी निवासी हरदोई रोड को धर दबोचा।

एएसपी ने बताया कि यह लोग नौकरी के नाम पर लोगों को ठगते हैं। चतुर्थश्रेणी कर्मचारी के लिए 70 हजार रुपये, तीन से पांच लाख रुपये बाबू के लिए घूस लेते हैं। अबतक 15-20 लोगों के साथ ठगी कर चुके हैं। कानपुर में टीटी गैंग के मामले में भी अंकित आरोपित था। उस प्रकरण में भी उसके खिलाफ वहां रिपोर्ट दर्ज है। कानपुर टीम ने भी आकर पूछताछ की है। उक्त लोगों के पास से फर्जी नियुक्तिपत्र, तीन मोबाइल फोन, अन्य दस्तावेज मिले हैं। गिरोह के चार लोगों को जुलाई के पहले हफ्ते में ही गिरफ्तार किया जा चुका है।

जाली फार्म छपवाकर भरवाते थे : एएसपी अवनीश्वर चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि अंकित से पूछताछ में पता चला कि यह लोग विभागों से जानकारी जुटाते थे कि कहां कितनी वैकेंसी निकल रही हैं। इसके बाद उसके जाली फार्म प्रिंट कराते बेरोजगारों को देते। उन्हें अपने ही पते पर भरकर मंगवाते। इससे बेरोजगारों के निवास स्थान की भी उन्हें जानकारी हो जाती। फिर उसी पते पर उन्हें फर्जी नियुक्तिपत्र भेजकर रुपये वसूल लेते थे।

फर्जी वेबसाइट बनाने और रुपये ऐंठने वाले गिरफ्तार : स्काउट गाइड के नाम से फर्जी वेबसाइट बनाकर और दो युवकों को नौकरी का झांसा देकर 6.5 लाख की ठगी करने वाले जालसाजों को एसटीएफ की टीम ने गिरफ्तार कर लिया। एएसपी अवनीश्वर चंद्र श्रीवास्तव ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों में कानपुर पनकी निवासी नित्यप्रिया मौर्या और श्याम बाबू निवासी फर्रुखाबाद है। दोनों को आलमबाग आनंद नगर स्थित यूथ हास्टल के पास से गिरफ्तार किया गया है। वहीं, पर दोनों ने आफिस बना रखा था। दोनों के पास से फर्जी दस्तावेज भी मिले हैं।