महाठग का भाई व शाइन सिटी का पार्टनर गिरफ्तार, सरगना सात समंदर दूर से चला रहा ठगी का नेटवर्क

Spread the love

पांच लाख का इनामी महाठग का भाई आसिफ गिरफ्तार
-लखनऊ कमिश्नरेट पुलिस ने प्रयागराज में दबोचा
-शाइन सिटी का मुख्य आरोपी सात समंदर दूर

लखनऊ। हजारों करोड़ की ठगी करने वाले शाइन सिटी के डायरेक्टर व महाठग राशिद नसीम के भाई आसिफ  नसीम को लखनऊ पुलिस ने प्रयागराज से धर दबोचा।

आरोपी के खिलाफ  लखनऊ में करीब 500 और दूरे देश में पांच हजार से अधिक ठगी के मुकदमे दर्ज हैं। वहीं पार्टनर राशिद नसीम लखनऊ पुलिस से सात समंदर दूर है।

संयुक्त पुलिस आयुक्त नीलाब्जा चौधरी के मुताबिक गोमतीनगर पुलिस व क्राइम ब्रांच की टीम ने हजार करोड़ की ठगी के मामले में फरार इनामिया आरोपी आसिफ नसीम निवासी प्रयागराज को गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार आरोपी व उसके भाई राशिद नसीम पर लखनऊ कमिश्नरेट ने 50 हजार और उत्तर प्रदेश सरकार ने पांच-पांच लाख का इनाम रखा था। एसीपी प्रवीण मालिक के नेतृत्व में पुलिस टीम आरोपियों की तलाश में लगी थी।

 

सर्विलांस व मुखबिर तंत्र की मदद से आरोपी आसिफ नसीम को लखनऊ प्रयागराज मार्ग पर वाराणसी कट के पास से गिरफ्तार कर लिया गया। आसिफ  शाइन सिटी का पार्टनर है।

फरार चल रहे राशिद की तलाश में पुलिस की टीम लगी है। जल्द ही उसे भी गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

 इनाम घोषित होने के बाद ताबड़तोड़ गिरफ्तारी

कुछ माह पहले राशिद नसीम की कंपनी में काम करने वाले विजलेश केसरवानी ने पीडि़तों का एक संगठन तैयार करके प्रयागराज हाईकोर्ट में कंपनी के खिलाफ  60 हजार करोड़ से अधिक की ठगी की रिट दायर की थी।

ठगी में उसकी पत्नी समेत कंपनी के 50 से अधिक कर्मचारी आरोपित हैं। मामले की जांच कर रही ईओडब्लू की टीम ने सितंबर माह में राशिद की पत्नी समेत दो महिलाओं को गोमतीनगर से गिरफ्तार किया था।

इसके बाद एसटीएफ और लखनऊ पुलिस ने करीब तीन दर्जन से अधिक आरोपियों को गिरफ्तार किया। इसके बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने राशिद और आसिफ नसीम पर पांच-पांच लाख रुपये का इनाम रखा।

महाठग का भाई दुबई से चला रहा नेटवर्क

महाठग राशिद नसीम समेत कंपनी के 50 से अधिकारी और कर्मचारी वर्ष 2019 में नेपाल के काठमांडू से गिरफ्तार हुए थे। बाद में राशिद को जमानत मिल गई थी। इसके बाद राशिद दुबई भाग गया था।

अब वह दुबई से नेटवर्क चला रहा है और जार्जिया की नागरिकता लेने के की तैयारी में है। वहीं एसटीएफ  ने बीते 30 जून को शाइन सिटी के नेशनल हेड बृज मोहन सिंह को भी गिरफ्तार कर जेल भेजा था।

चार साल नौकरी करने के बना देश का महाठग

महाठग आसिफ नसीम प्रयागराज करेली के जीटीबी नगर का रहने वाला है। 2009 में   उसने स्पीक एशिया मल्टी लेवल मार्केटिंग कंपनी में एजेंट की नौकरी शुरू की थी।

शातिर दिमाग नसीम ने यहीं पर रहकर निवेशकों को ठगने की कला सीखी। इसके बाद वर्ष 2013 में उसने शाइन सिटी इंफ्रा प्रोजेक्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से हाउसिंग कंपनी और उसके बाद 50 से अधिक कंपनियां खोल डाली। उसने अपने भाई राशिद नसीम को कंपनी में पार्टनर बनाया था।

आर स्क्वायर विपुलखंड गोमतीनगर में दोनों भाइयों ने आफिस खोला। इसके बाद सस्ते दामों में प्लाट व कंपनी में अन्य लुभावने ऑफर देकर लोगों का निवेश कराना शुरू किया।

इतना ही नहीं कंपनी कर्मचारियों को मोटा मुनाफा देने का लालच देकर कई शहर और राज्यों में अपने एजेंट के माध्यम से हजारों लोगों का निवेश कराया।

इतना ही नहीं विश्वास जीतने के लिए निवेशकों को कुछ दिनों तक तय मुनाफे के तहत प्रतिमाह रुपया भी दिया। वहीं जब हजारों करोड़ रुपये जमा हो गये तो दोनों भाई फरार हो गये।

 

20-25 हजार रुपये महीना पर किसानों के प्लाट लेता था किराए पर

एडीसीपी सैय्यद मो. कासिम आब्दी ने बताया कि आसिफ गोसाईगंज, बीकेटी और नगराम समेत देश के अन्य जनपदों में किसानों को अपने झांसे में लेता था।

उनकी जमीनों को 20-25 हजार रुपये महीना किराए पर लेता और फिर उसमें कंपनी का बोर्ड लगा देता था।

उसके बाद ग्राहकों को बताता था कि यह उसी के प्लाट हैं। उसी जमीन पर प्लाट के निवेश के नाम पर लोगों से रुपये लेता था।