अलविदा-2021: साल की शुरुआत से लेकर अंत तक तड़तड़ाती रहीं गोलियां

Spread the love

लखनऊ। लखनऊ पुलिस एक तरफ  कोरोना काल में लॉकडाउन जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी को निर्वहन करती नजर आई तो दूसरी तरफ  अपराधों के ग्राफ  को भी नीचे गिराया।

बहुचर्चित पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह हत्याकांड के आरोपीे गिरिधारी विश्वकर्मा जहां पुलिस की गोली से ढेर हुआ वहीं कुछ अपनों ने ही पुलिस विभाग की किरकिरी भी कराई।

कुल मिलाकर देखा जाये तो लखनऊ पुलिस लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट पूरे साल दमखम के साथ कानून का इकबाल बुलंद करने की मुहिम में लगी रही।

अपराधिक उतार-चढ़ाव के साथ लखनऊ पुलिस का गुजरा साल

इतना ही नहीं लखनऊ पुलिस ने छोटे-मोटे चोर उचक्कों से लेकर मादक पदार्थ के तस्करों व अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों को जिला बदर कर उन पर नकेल कसने के लिए हथकंडे भी अपनाए।

मगर हत्या, डकैती, लूट, अपहरण, चोरी, बलात्कार व ठगी टप्पेबाजी की घटनाओं समेत अन्य अपराधिक वारदातें धड़ल्ले से जारी रहीं। इस दौरान पुलिस और बदमाशों के बीच भिड़त भी हुई।

इसमें कई बदमाशों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी। पुलिस ने ज्यादातर घटनाओं का खुलासा कर बदमाशों को जेल की सलाखों के पीछे भेजने का दावा भी किया, जबकि रसूखदार और राजनीतिक पहुंच वाले आरोपियों पर नकेल कसने में बेबस भी रही।

लॉकडाउन में निभाई महत्वपूर्ण भूमिका

लखनऊ पुलिस ने कोरोना काल पार्ट-टू में लॉकडाउन जैसी चुनौती को स्वीकारा और उसे अंजाम तक भी पहुंचाया। इस दौरान लखनऊ पुलिस का मानवीय चेहरा भी सामने आया।

लोगों व जरूरतमंदों की मदद के साथ उन्हें अस्पताल व अन्य सेवाओं में भी पुलिस ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया और अपनी जिम्मेदारी निभाई। साथ ही ऑक्सीजन व रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वालों को सलाखों के पीछे भी पहुंचाया।

वहीं जानकीपुरम व कृष्णानगर पुलिस पर लूट व बाजार से वसूली का आरोप भी लगा। जिसमें दारोगा समेत करीब आठ पुलिसकर्मियों को लाइन हाजिर भी किया गया।

कमिश्नरेट सिस्टम ने खोले कई वारदातों के राज

पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम में तैनात दर्जनभर से अधिक आईपीएस अफसरों की फौज ने जहां एक ओर अपराधिक घटनाओं पर नकेल कसने में सफलता हासिल की वहीं दूसरी ओर सीसीटीवी, सर्विलांस सेल व मॉडल टेक्नालाजी की मदद से वारदातों के खुलासे में अहम भूमिका निभाई।

जिसमें लाला जुगुल किशोर ज्वैलर्स लूट कांड प्रमुख है। 24 फरवरी की रात छत के रास्ते दाखिल हुए चोरों ने वारदात को अंजाम दिया था।

सीसीटीवी फुटेज की मदद से पुलिस एक सप्ताह के अन्दर  ही चोरों को गिरफ्तार कर करीब 7 करोड़ के जेवरात व 70 लाख रुपये से अधिक की नकदी बरामद की थी। इसके अलावा अलीगंज लूटकांड समेत कई अन्य मामलों का खुलासा किया गया।

चर्चा में रहा पूर्व ब्लाक प्रमुख हत्याकांड

गुजरे साल की बात करें तो पूर्व ब्लॉक प्रमुख हत्याकांड पुलिस के लिए सुर्खियों बना। इसमें पूर्वांचल के पूर्व सांसद धनजंय सिंह का नाम भी लपेटे में रहा।

6 जनवरी 2021 को राजधानी के विभूतिखंड थाना क्षेत्र के पॉश इलाके कठौता चौराहे पर मऊ जिले के पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी।

इस दौरान अजीत का साथी मोहर सिंह व एक फूड डिलीवरी कंपनी का कर्मचारी घायल हुआ था। इस प्रकरण में आजमगढ़ के बाहुबली कुंटू सिंह, अखंड सिंह के अलावा गिरिधारी के खिलाफ  नामजद एफआईआर की गई थी।

पुलिस ने इस शूटआउट में हमलावरों के मददगारों को दबोचा भी था। मामले में साजिशकर्ता बनाए गये इनामिया पूर्व सांसद धनंजय सिंह अभी भी पुलिस गिरफ्त से दूर है। फिलहाल अभी तक पुलिस इस पहेली को सुलझा नहीं पाई है।

बंग्लादेशी डकैत एनकाउंटर भी चर्चा में रहा

लखनऊ पुलिस के बंग्लादेशी डकैत का एनकाउंटर भी चर्चा में रहा। 18 अक्टूबर की रात गोमतीनगर इलाके में बंग्लादेशी गिरोह के डकैत हमजा को मुठभेड़ के दौरान पुलिस ने ढेर कर दिया था।

हमजा पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित था। इससे कुछ दिन पहले ही चिनहट पुलिस की टीम ने तीन बदमाशों को एनकाउंटर के दौरान दबोचा था जबकि कई अन्य भाग निकले थे।

गिरोह के सदस्य यूपी के अन्य राज्यों के रेलवे किनारे बसे मकानों को निशाना बनाकर लूट व डकैती की वारदात को अंजाम देते थे। इतना ही नहीं महिलाओं के साथ दुष्कर्म भी करते थे।

गिरोह के लोग बांग्लादेश से पश्चिम बंगाल के रास्ते उत्तर प्रदेश पहुंचकर यह गैंग लूट और डकैती जैसी वारदातों को अंजाम दे रहे थे। हालांकि गिरोह के सदस्यों की धर पकड़ जारी है।

यह घटनायें जो साल भर चर्चा में रहीं

⇒5 जनवरी को ठाकुरगंज में प्रापर्टी डीलर विपिन विश्वकर्मा को गोली मारकर हत्या

⇒ 6 जनवरी को विभूतिखंड में पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की गोलियों से भूनकर हत्या

⇒29 जनवरी को बंथरा में कारपेंटर अमरीश की गोली मारकर हत्या

⇒24 फरवरी को अमीनाबाद स्थित जुगल किशोर ज्वैलर्स शोरूम में करोड़ों की चोरी

⇒15 फरवरी को पुलिस कस्टडी से भागने के दौरान बदमाश गिरधारी विश्वकर्मा ढेर

⇒2 मार्च को गाजीपुर में कोरियर कंपनी के कर्मचारियों को बंधक बनाकर डकैतों ने लाखों लूटे

⇒2 मार्च को भाजपा सांसद कौशल किशोर के बेटे आयुष पर फायरिंग

⇒11 जुलाई को काकोरी दुबग्बा स्थित मकान में संदिग्ध आतंकी मिलने से दहशत

⇒01 अगस्त को अलीगंज स्थित मंदिर के पुजारी को धमकी भरा चिट्टïी भेजने से हदशत

⇒8 दिसम्बर को अलीगंज में ज्वैलर्स शॉप में घुसकर कर्मी की गोली मार हत्या और लूटपाट

⇒9 दिसंबर को जानकीपुरम में खनन कारोबारी सुभाष सिंह की गोली मारकर हत्या कर

⇒11 दिसम्बर की शाम तालकटोरा में शिया वक्फ  बोर्ड के सदस्य सैय्यद फैजी पर फायरिंग

⇒12 दिसंबर को कृष्णानगर में मुख्तार के करीबी ठेकेदार की गोली मार कर हत्या

⇒14 दिसंबर को कैसरबाग के रहने वाले टायर कारोबारी मो.शोएब की अगवा कर हत्या

⇒26 दिसंबर को विकासनगर में बीच सड़क पर पत्नी की गला रेतकर हत्या