दलित युवक ने दरोगा वा सिपाही पर लगाया जाति सूचक गाली देने वा मारने का आरोप

लखनऊ : बख्शी का तालाब

नीलाम हुए तालाब पर कब्जा दिलाने पहुंचे इलाके के दरोगा व सिपाही ने वहां पर मौजूद एक दलित युवक को जाति सूचक गालियों से नवाजते हुए मारने पीटने व फर्जी मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने की धमकी दे डाली। पीड़ित युवक ने क्षेत्राधिकारी से न्याय की गुहार लगाई है।

बख्शी का तालाब स्थानीय कस्बा थाना क्षेत्र के अंतर्गत भोला पुरवा गांव के निवासी सूरज रावत पुत्र रामनाथ रावत ने पुलिस पर आरोप लगाया कि बीते शुक्रवार को अपने गांव के मित्र रईस अली के साथ क्षेत्र के कोटवा गांव स्थित तालाब तिकोरिया झलौवा बॉडर पर गया था।

जहां नगर पंचायत बीकेटी के कर्मचारियों थाने के दरोगा हरिदास चौरसिया व सिपाही राम खेलावन मौर्य रईस अली के नाम से नीलामी हुए तालाब पर कब्जा दिलाने गए थे। इसी बीच तालाब पर कुछ वाद विवाद हो गया। वहां पर मौजूद उक्त दरोगा व सिपाही ने सूरज रावत को जाति सूचक गालियां देने लगे।

पीड़ित के विरोध करने पर दरोगा ने सूरज रावत को वहां पर मौजूद दर्जनों लोगों के सामने पेट पर जोरदार घूंसा मार दिया। और कहा कि ज्यादा नेतागीरी करोगे तो तुझे किसी गम्भीर आरोपों मे फर्जी मुकदमे में फंसाकर जेल भेज देंगे।इतनी जल्दी तेरी जमानत भी नही होगी।

इससे आहत सूरज रावत ने बख्शी का तालाब थाना प्रभारी निरीक्षक को एक लिखित शिकायती प्रार्थना पत्र देकर व क्षेत्राधिकारी बीकेटी को शिकायती प्रार्थनापत्र देकर दरोगा हरिदास चौरसिया व सिपाही राम खेलावन मौर्य पर विधिक धाराओं में मुकदमा दर्ज करने की गुहार लगाई है।

अब देखना है कि पीड़ित को न्याय मिलता है या पुलिस महकमा अपने स्टाफ को बचाने में लीपापोती कर मामले को ठंडे बस्ते में बंद करेगा। या दलित पीड़ित को इंसाफ और न्याय मिलेगा।

News24On से आदित्य प्रताप राव

Leave a Reply

Your email address will not be published.