Ajit Singh hatyakand:शूटर मुस्तफा व बंधन का हुआ आमना-सामना,उगले कई राज  

Spread the love

-सोमवार को गिरफ्तार हुए मुस्तफा को पूछताछ के बाद भेजा गया जेल
-पुलिस हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने के पहुंची करीब
-फरार एक और शूटर की तलाश में दबिश

Ajit Singh hatyakand: Lucknow

राजधानी के विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र में बहुचर्चित मऊ के पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह हत्या मामले में सोमवार को लखनऊ में गिरफ्तार शूटर बंटी उर्फ मुस्तफा उर्फ राजेश का रिमांड पर लाए गए मनीष उर्फ बंधक का पुलिस ने आमना-सामना कराया। इस दौरान दोनों से पुलिस की टीम ने एक साथ व अलग-अलग पूछताछ कर बयान दर्ज कराया। पुलिस की मानें तो दोनों शूटरों ने हत्या से संबंधित अहम जानकारी दी है। वहीं अब पुलिस मामले में फरार शूटर रवि यादव की तलाश में संभावित ठिकानों पर दबिश दे रही है।

Uttar Pradesh Lucknow

विभूतिखंड इंस्पेक्टर चन्द्रशेखर सिंह के मुताबिक बीते सोमवार को पॉलीटेक्निक चौराहे के पास से गिरफ्तार 50 हजार के इनामी शूटर बंटी उर्फ मुस्तफा उर्फ राजेश निवासी हरियाणा ने पूछताछ में अहम जानकारी दी है। इसके साथ ही आजमगढ़ कोर्ट में सरेंडर हुए मनीष उर्फ बंधन को रिमांड पर लेकर पूछताछ की गई।
पूछताछ के दौरान दोनों शूटरों का सामना भी कराया गया। दोनों ने एनकांउटर में मारे गए गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ डॉक्टर के कहने पर अजीत पर गोलियां बरसाने की बात कबूल की है। करीब घंटों चली पूछताछ के बाद पुलिस ने दोनों को लखनऊ जेल भेज दिया है। पुलिस हत्याकांड मामले में शिवेन्द्र सिंह उर्फ अंकुर से भी पूछताछ में अहम जानकारी मिलने का दावा किया है। फिलहाल पुलिस रिमांड पर लेकर आरोपियों से पूछताछ के साथ ही कड़ी से कड़ी जोड़ते हुए हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में जुटी है।
Ajit Singh hatyakand
Ajit Singh hatyakand
सूत्रों की मानें तो दोनों आरोपियों ने फरार रवि यादव के बारे में भी जानकारी दी है। फिलहाल पुलिस का दावा है कि जल्द ही फरार रवि यादव को गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

क्या था पूरा मामला

अजीत सिंह की छह जनवरी को विभूतिखंड के कठौता चौराहे के पास गैंगवार में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। अजीत के साथी मोहर सिंह ने गिरधारी उर्फ डॉक्टर, अखंड सिंह और कुंटू सिंह समेत छह लोगों के खिलाफ  नामजद एफआईआर दर्ज कराई थी। पुलिस ने दो सप्ताह बाद शूटर संदीप सिंह उर्फ बाबा को जनपद अंबेडकरनगर से गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा किया था।
शूटर ने गिरधारी उर्फ डाक्टर , रवि यादव, शिवेन्द्र सिंह उर्फ अंकुर, राजेश तोमर उर्फ जय, बंटी उर्फ वीरू उर्फ राजेश उर्फ मुस्तफा के साथ मिलकर वारदात को अंजाम देने की बात कबूल की थी। मनीष उर्फ बंधन ने शूटरों के ठहरने से लेकर हथियार व भागने में मदद की थी। मनीष आजमगढ़ कोर्ट में सरेंडर हुआ था।

Bahubali sansad Dhananjay Singh

वहीं गिरधारी विश्वकर्मा आम्र्स एक्ट में दिल्ली में गिरफ्तार हुआ था। रिमांड के दौरान भागने के प्रयास में गिरधारी विश्वकर्मा को लखनऊ पुलिस ने मार गिराया था।
इसी बीच धनंजय सिंह ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया। इसके बाद 50 हजार का इनामी शूटर राजेश तोमर को दिल्ली पुलिस ने 15 मार्च को गिरफ्तार कर लिया। जबकि शूटर शिवेन्द्र सिंह उर्फ अंकुर लखनऊ कोर्ट में सरेंडर हो गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.