अजीत हत्याकाण्ड: मुख्य आरोपी ने फिर कराई यूपी पुलिस की फजीहत

कानपुर बिकरू काण्ड बदमाशों के लिए बना नजीर

एनकाउंटर के भय से दूसरे राज्यों में बदमाश करवा रहे गिरफ्तारी

news24on (hasan rana)

लखनऊ। प्रदेश का बहुचर्चित कानपुर बिकरू काण्ड ने जहां एक ओर पुलिस महकमे को एक बड़ी सीख दी वहीं दूसरी ओर कुख्यात बदमाशों के लिए भी नजीर साबित हुई है।

NEWS24ON
NEWS24ON

बिकरू काण्ड के मुख्य आरोपी गैंगेस्टर विकास दुबे का नाटकीय ढंग से भाजपा शासित मध्य प्रदेश के उज्जैन में पकड़ा जाना और फौरन यूपी पुलिस को सौप देना और फिर एनकाउंटर में मारे जाने की घटना से सबक लेते हुए कुख्यात बदमाशों ने उन राज्यों में अपनी गिरफ्तारी करवाना शुरू कर दिया है.

NEWS24ON
NEWS24ON

नाटकीय ढंग से गिरफ्तारी

जहां पर भाजपा की सरकार न होकर किसी और पार्टी की सरकार है। ऐसा ही एक ताजा मामला लखनऊ के विभूतिखण्ड थाना क्षेत्र में सामने आया है जहां 6 जनवरी को विधायक हत्याकाण्ड के गवाह और पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह को गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई। हत्याकाण्ड में नामजद मुख्य आरोपी व एक लाख का इनामी बदमाश गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ डाक्टर ने नाटकीय ढंग से दिल्ली में आम्र्स एक्ट में गिरफ्तार हो गया।

NEWS24ON
NEWS24ON

हत्याकाण्ड की गुत्थी सुलझाने के प्रयास

दिल्ली में आम आदमी पार्टी की सरकार है। हालांकि लखनऊ पुलिस गिरधारी को ट्रांजिट रिमाण्ड पर लाकर हत्याकाण्ड की गुत्थी सुलझाने के प्रयास में जुटी है।

सुरेन्द्र कालिया समेत कई अन्य अपराधी दे चुके हैं चकमा

बीते वर्ष 13 जुलाई को हरदोई के हिस्ट्रीशीटर और रेलवे ठेकेदार सुरेन्द्र कालिया ने विरोधियों को फंसाने और सरकारी गनर हासिल करने के लिए आलमबाग स्थित अंजता अस्पताल के सामने खुद पर कई राउण्ड फायरिंग करवाई थी। बुलेट प्रूफ गाड़ी होने की वजह से वह बच गया,लेकिन उसका चालक फायरिंग में घायल हुआ था।

NEWS24ON
NEWS24ON

सुरेन्द्र पर 50 हजार का इनाम घोषित

पुलिस ने इस साजिश में शामिल उसके चार साथियों को गिरफ्तार कर खुलासा किया था। मामले में सुरेन्द्र पर 50 हजार का इनाम घोषित हुआ था। वह यूपी पुलिस को चकमा देकर वह कोलकाता पहुंच गया जहां उसने आम्र्स एक्ट में अपनी गिरफ्तारी करवा ली। इसके अलावा बिकरू काण्ड मामले में एनकाउंटर में मारे गये विकास दुबे के भाई दीप प्रकाश ने कृष्णानगर थाने में दर्ज मुकदमे के मामले में कोर्ट में सरेण्डर कर दिया।

महकमे की फजीहत

वहीं बीते वर्ष ही मोहनलालगंज व्यापार मण्डल के अध्यक्ष सुजीत कुमार हत्याकाण्ड मामले के मुख्य साजिशकर्ता ने लखनऊ कोर्ट में नाटकीय ढंग से सरेंडर कर दिया। उक्त मामलों में पुलिस महकमे की फजीहत हुई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.