रोहित शर्मा और विराट कोहली के बीच में क्या कुछ चल रहा है आइए जानते हैं

रोहित शर्मा की फ़िटनेस और ऑस्ट्रेलिया दौरे में उनकी ग़ैरमौजूदगी को लेकर पूछे गए सवाल पर विराट कोहली ने पहली बार मुंह खोला और भारतीय कप्तान के मुंह खोलते ही हो गया है बवाल। हर तरफ़ बस यही सवाल है, रोहित और विराट के बीच ये चल क्या रहा है?

इस तरह की बातें पहली बार तब हवा में आईं, जब भारतीय टीम पिछले साल इंग्लैंड में हुए विश्व कप क्रिकेट टूर्नामेंट में खेल रही थी. हालाँकि उस विश्व कप में न्यूज़ीलैंड के ख़िलाफ़ खेले गए सेमीफ़ाइनल को छोड़कर पूरे टूर्नामेंट में रोहित शर्मा ने बेहद शानदार प्रदर्शन किया और एक तरह से विराट कोहली का सबसे बड़ा सहारा ही साबित हुए, लेकिन कुछ अवसरों पर विराट कोहली, रोहित शर्मा के प्रदर्शन की उतनी और उस तरह से तारीफ़ नहीं कर सके जितनी एक कप्तान के रूप में उन्हें करनी चाहिए थी.

बढ़ रही हैं दूरियाँ ?

शायद कामयाबी के रथ पर सवार विराट कोहली और रोहित शर्मा की ‘इगो’ या फिर कहें कि ‘अहम्’ इनके बीच की दूरियाँ बढ़ा रहा है.ये दूरियाँ इतनी अधिक हैं कि ऑस्ट्रेलिया पहुँचने के बाद कप्तान विराट कोहली ने शुक्रवार को खेले गए पहले एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच से एक दिन पहले प्रेस कांफ़्रेंस में कहा कि रोहित शर्मा की चोट को लेकर भ्रम की स्थिति है और उनके पास चोट की स्थिति को लेकर पूरी सूचना नहीं है.

कोहली के मुताबिक़, “ईमेल में कहा गया था कि रोहित शर्मा को आईपीएल के दौरान चोट लगी थी. लेकिन इसके बाद रोहित शर्मा आईपीएल में खेले और सभीने सोचा कि वो ऑस्ट्रेलिया जाने वाली फ़्लाइट में होंगे. हम अभी भी उनके बारे में स्पष्ट जानकारी का इंतज़ार कर रहे हैं विराट कोहली ने कहा कि उन्हें सिर्फ़ इतनी सूचना मिली है कि वो एनसीए में हैं और उनका आकलन किया जा रहा है.

11 दिसंबर को उनका दोबारा आकलन होगा.अब अगर विराट कोहली कह रहे हैं तो सच ही कह रहे होंगे लेकिन कमाल की बात है कि इनमें आपसी संवाद की भी इतनी कमी है कि इस मुद्दे पर दोनों खिलाड़ी खुलकर आपस में बात करने को तैयार नहीं हैं, वो भी तब, जब दोनों संयुक्त अरब अमीरात में खेले गए बीते आईपीएल में एक दूसरे के ख़िलाफ़ आमने-सामने भी हुए.एक तरफ़ वह चोटिल घोषित होते हैं और ऑस्ट्रेलिया दौरे से उन्हें हटा दिया जाता है. दूसरी तरफ़ वो इसके बाद आईपीएल का क्वॉलिफ़ायर और फ़ाइनल मुक़ाबला खेलते भी हैं और कप्तान के तौर पर ख़िताबी मुक़ाबला जीतकर अपना रुतबा भी बढ़ाते हैं.

बीसीसीआई क्या कर रही है?


वैसे, इन हालात में किरकिरी बीसीसीआई की साख़ की भी हुई जो पूरे मामले में मूक दर्शक साबित हुई. उसके व्यवहार में क़तई भी परिपक्वता दिखाई नहीं दी.

भारतीय क्रिकेट का इतिहास इस तरह के ढेरों क़िस्सों से भरा पड़ा है जब खिलाड़ियों ने घरेलू क्रिकेट में खेलने के नाम पर अपने आपको चोटिल घोषित किया लेकिन जैसे ही विदेशी दौरे पर जाने की बात सामने आई तो फ़िटनेस सर्टिफिकेट लेकर पहुँच गए.

लेकिन यहाँ मामला उलटा दिखाई दे रहा है. रोहित शर्मा आईपीएल फ़ाइनल खेलकर दिखाना चाह रहे हैं कि वो फ़िट हैं और उन्हें चोटिल घोषित किया जा रहा है.

वैसे, खिलाड़ियों के बीच आपसी तनातनी के ढेरों मामले पूरी दुनिया में सभी खेलों में हैं. भारत भी इससे अछूता नहीं है.

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.