Bengal Assembly Election 2021: ओवैसी लड़ेंगे बंगाल में चुनाव मार्च 27 को ओवैसी की जान सभा अंतिम समय में लिया फैसला

Spread the love

West Bengal Assembly Elections: नामांकन की तारीख बीत जाने के बाद ओवैसी को चुनाव की याद आई है. ओवैसी ने ऐलान किया है कि वो 27 तारीख को पश्चिम बंगाल में अपने प्रत्याशियों का ऐलान करेंगे.

कोलकाता. AIMIM पश्चिम बंगाल के चुनाव (West Bengal elections) लगभग 10 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है. ओवैसी बंगाल के मालदा , मुर्शिदाबाद इलाके में ही अपने उम्मीदवार खड़ा करेंगे. 27 march तारीख को पश्चिम बंगाल में रैली कर अपने उम्मीदवारों का ऐलान करेंगे. ओवैसी ने फुरफुरा शरीफ के पीरज़ादा अब्बास सिद्दीकी के साथ चुनाव लड़ने का ऐलान कर बंगाल में सियासी सनसनी मचा दी थी. लेकिन हैदराबाद वाले भाईजान के वापस लौटते ही बंगाल वाले भाईजान ने उनको ज़ोर का झटका देकर लेफ्ट और कांग्रेस के साथ गठबंधन का ऐलान कर दिया.

हैदराबाद वाले भाई जान 12 से भी कम सीटों पर चुनाव लड़ सकते हैं. चौथे चरण के लिए नामांकन की तारीख बीत जाने के बाद AIMIM ओवैसी को पश्चिम बंगाल के चुनाव की याद आई है. AIMIM  मालदा  ,मुर्शिदाबाद जैसे जिलों में ही ज्यादा फोकस करेगी जहां पर मुस्लिम आबादी 50%से ज्यादा है .कभी AIMIM की पार्टी के बंगाल में मुख्य नेता रहे ज़मीरुल हसन ने आरोप लगाया कि ओवैसी ने बीजेपी से डील कर ली है ताकि चुनाव में बीजेपी को फायदा मिले

Bengal Assembly Election 2021 (गठबंधन का किया ऐलान)

पूरे पश्चिम बंगाल में AIMIM ने चुनाव लड़ने की घोषणा की  . AIMIM पार्टी के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी जब पश्चिम बंगाल पहुंचे तो स्थानीय नेता पीरजादा के साथ गठबंधन का ऐलान कर दिया था जिसके बाद सूबे के सभी सियासी समीकरण ध्वस्त होने का खतरा मंडराने लगा था. हालांकि यह अंतिम क्षणों में अब्बास सिद्दीकी ने अपने आपकोAIMIM से अलग कर दियाऔर AIMIMकी बंगाल में बड़ी ताकत बनने की हसरत अधूरी रह गई.

चुनाव के नतीजें

आपको बता दें कि कई पार्टियां असदुद्दीन ओवैसी को बदनाम करने के लिए बीजेपी की नंबर दो पार्टी बताते हैं .अब देखना यह होगा कि अब असदुद्दीन ओवैसी के बंगाल इलेक्शन छोड़ने के बाद सबसे ज्यादा फायदा किसका होगा इससे बीजेपी को फायदा होगा या टीएमसी को फायदा होगा यह तो चुनाव का नतीजा आने के बाद ही पता चलेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published.