लखनऊ में फिर लगे विवादित बैनर्स, मुकदमे लगाए और मुकदमे हटाए

लखनऊ में फिर लगे विवादित बैनर्स, मुकदमे लगाए और मुकदमे हटाए
-पूर्व मुख्यमंत्री पर पत्रकारों द्वारा मुकदमा लगाए जाने पर सपा ने शहर में लगाए बैनर्स
-कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस ने बैनर्स को हटाया

लखनऊ। समाजवादी पार्टी की ओर से एक बार फिर सरकारी विरोधी बैनर लगाए गए हैं। ये बैनर 1090 चौराहे और आसपास के इलाकों में लगाई गई थी। जिसमें एक ओर अखिलेश यादव की फोटो और दूसरी ओर सीएम योगी आदित्यनाथ की फोटो लगी है। इसमें लिखा है मुकदमे लगाए और मुकदमे हटाए। हालांकि पुलिस ने कड़ी मशक्कत के बाद इन बैनर्स को चुन चुनकर हटा दिया।

जानकारी के अनुसार बैनर्स में लिखे हुए स्लोगन अखिलेश यादव पर हुए एफआईआर की ओर इशारा कर रहे हैं। लगाए गए बैनर में पत्रकारों द्वारा दर्ज कराई गई एफआईआर को सरकार की ओर ईशारा कर रहे हैं। पोस्टर में एक तरफ  पूर्व सीएम अखिलेश यादव व दूसरी ओर सीएम योगी आदित्यनाथ की फोटो लगी है। जिसमें एक ओर मुकदमे लगाए व दूसरी ओर मुकदमे हटाए लिखा गया है। वहीं पुलिस ने रात भर में इन बैनर्स को हटा दिया।

गौरतलब हो कि मुरादाबाद में हुए तीन दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग में सपा मुखिया व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव 11 मार्च को शामिल हुए थे। इससे पूर्व दिल्ली रोड स्थित पांच सितारा होटल में प्रेस कांफ्रेस खत्म होने के बाद होटल की लाबी में विवाद हुआ। इसके बाद मारपीट एवं धक्का-मुक्की में एक चैनल के प्रतिनिधि घायल भी हुए थे। जिसके बाद कुछ पत्रकारों ने अखिलेश यादव समेत 21 लोगों पर मारपीट का मुकदमा दर्ज कराया था।

पहले भी लगाए जा चुके हैं विवादित बैनर  

इससे पहले भी योगी सरकार के कई मंत्रियों का विवादित फोटो लगाया जा चुका है। इस बावत पुलिस ने सपा के कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार भी किया था। वहीं बीते वर्ष 10 मार्च की देर रात लखनऊ के पॉश इलाके लोहिया पथ पर सरकार विरोधी में विवादित बैनर लगा दिए गए और पुलिस को इसकी भनक तक नहीं लगी।

बैनर में प्रधानमंत्री का फोटो के साथ लिखा है था कि ‘याद है ना? जो करे झूठा प्रचार, उखाड़ फेंको ऐसी सरकार बता दें कि आइपी सिंह ने ट्वीट कर खुद जगह- जगह ऐसे बैनर लगाए जाने की सूचना दी थी। कुछ ही देर में यह इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो गया।  

Leave a Reply

Your email address will not be published.