रोज नोटों की ‘पूजा’ करनेवाली lAS पूजा के नाम हैं कई रिकार्ड : जानिए कौन हैं पूजा सिंघल, जिसका जेल जाना तय

Spread the love

रोज नोटों की ‘पूजा’ करनेवाली lAS पूजा के नाम हैं कई रिकार्ड : जानिए कौन हैं पूजा सिंघल, जिसका जेल जाना है तय

20 करोड़ का कैश रखकर रोज नोटों की पूजा करनेवाली आईएएस पूजा सिंघल के शुरुआती जीवन के बारे में जानकर आप दंग रह जाएंगे। खासकर उनकी पढ़ाई – लिखाई को लेकर।

जानकर हैरत होगी कि जिस पूजा सिंघल पर ED का शिकंजा कस रहा है, उसके नाम आज भी देश में 21 साल और सात दिन की उम्र में आईएएस कैडर में प्रवेश करने वाली सबसे कम उम्र की होने का लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स है।

पूजा पढ़ाई में हमेशा अव्वल रहीं हैं। देहरादून में जन्मी पूजा सिंघल ने गढ़वाल विश्वविद्यालय, देहरादून से स्नातक की पढ़ाई पूरी की है और अपने पहले प्रयास में आईएएस परीक्षा पास की थी। वह अपने स्कूल के दिनों से लेकर विश्वविद्यालय की परीक्षा तक टॉपर ही रहीं। पूजा एक उल्लेखनीय अकादमिक ट्रैक रिकॉर्ड रखती हैं।

यहां से हुआ पतन

हालांकि नौकरी के कुछ वर्षों के बाद ही स्कॉलर पूजा सिंघल की इमेज आम लोगों में चकलाचूर होने लगी। खासकर जब पल्स अस्पताल बना तो स्कॉलर पूजा सिंघल भ्रष्ट अफसरों के तौर पर मानी जाने लगी।

आम लोगों में यह धारणा पैठ कर गई कि पूजा भ्रष्टाचार में आकंठ डूब गई है। यहां दीगर यह है कि रिम्स में पोस्टिंग के दिनों से पहले, सिंघल हजारीबाग और महेंद्रपुर अनुमंडल में एसडीओ के रूप में तैनात थीं।

हजारीबाग के एसडीओ के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने विभिन्न गोदामों पर सफलतापूर्वक छापेमारी की और झारखंड शिक्षा परियोजना के लिए किताबें जब्त कीं, जो अवैध रूप से बेची जा रही थीं।

सिंघल ने राज्य में शारीरिक रूप से अक्षम लोगों पर डेटा एकत्र करने के लिए पहली बार झारखंड में विकलांग सर्वेक्षण भी किया था।

अब जेल जाने की है नौवत

पूजा की शुरुआती इमेज बेहद सख्त अफसर की थी, लेकिन आज उनकी इमेज पूरी तरह से ध्वस्त हो गई है। अब तो जेल जाने की नौबत है। ससुर पहले ही पकड़ लिए गए हैं। अब पति और उनकी गिरफ्तारी की तैयारी है, जो तय है।