रेलवे ने जुर्माना लगाकर केवल दिसंबर में कमाए 59 लाख रुपये

रेलवे ने जुर्माना लगाकर केवल दिसंबर में कमाए 59 लाख रुपये

 
लखनऊ। कोरोना के बीच केवल 30 प्रतिशत ट्रेनें चलाने के बावजूद रेलवे अपनी आय बढ़ाने के लिए कड़े प्रयास किए है। माल ढुलाई और आटोमोबाइल सेक्टर की लोडिंग बढ़ाने के साथ रेलवे ने टिकट चेकिंग कर आय का नया रिकॉर्ड बना दिया।
देश भर के सभी रेल मंडलों में पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ ने केवल दिसंबर माह में ही 7100 यात्रियों से बिना टिकट और अवैध टिकट पर यात्रा करते हुए उनपर जुर्माना लगाया। रेलवे को जुर्माना से दिसंबर माह में 59 लाख रुपये की आय हुई है।
रेलवे ने 26 मार्च से कोरोना के कारण अपनी ट्रेनें बंद कर दी थी। एक एक मई से प्रवासी स्पेशल ट्रेनों की शुरुआत हुर्ई। जबकि नियमित ट्रेनों की जगह 13 मई से राजधानी फिर कुछ क्लोन स्पेशल ट्रेनें एक जून से शुरू की गईं। अक्टूबर में रेलवे ने पूजा स्पेशल ट्रेनों की भी शुरुआत की।
पूर्वांचल से लखनऊ होकर मुंबई सहित कई ट्रेनों में टिकट चेकिंग स्टाफ ने जब जांच की तो कई तरह की गड़बड़ी सामने आयी। पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अंबर प्रताप सिंह और सहायक वाणिज्य प्रबंधक एसके संखवार के नेतृत्व में एंटी फ्रॉड दस्ते ने दिसंबर माह में ही,
वैशाली एक्सप्रेस स्पेशल, अवध एक्सप्रेस स्पेशल, गोरखपुर एलटीटी सुपरफास्ट, कुशीनगर एक्सप्रेस स्पेशल, गोरखधाम एक्सप्रेस स्पेशल, बिहार संपर्कक्रांति स्पेशल और पुष्पक एक्सप्रेस स्पेशल में जांच की।
जिसमें वरिष्ठ नागरिकों के नाम पर आवंटित लोअर बर्थ कोटे की सीट लेकर भी यात्रा करते हुए युवा रेल यात्री मिले।

इसके अलावा दूसरे नामों से बनने वाले टिकटों और रेलवे आरक्षण केंद्रों के काउंटरों से टिकट बनाकर यात्रा करने वालों से भी जुर्माना वसूला गया। इससे पहले इसी रेल मंडल ने सितंबर में 32 लाख रुपये का जुर्माना वसूला था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.