Mukhtar Ansari मुख्तार अंसारी के अरमानों पर सुप्रीम कोर्ट ने फेरा पानी उत्तर प्रदेश के बांदा जेल में भेजने का आदेश

Spread the love

लगातार उत्तर प्रदेश योगी सरकार यह कहती आ रही है कि मुख्तार अंसारी कानूनी कार्यवाही से बचना चाह रहे हैं

नई दिल्ली लखनऊ : बाहुबली मुख्तार अंसारी 2019 जनवरी से ही पंजाब के कारागार में कैद हैं बाहुबली मुख्तार अंसारी पर यूपी में कई मामले दर्ज है जिनके मामले में बाहुबली मुख्तार अंसारी को आरोपी बनाया गया है राज्य के कई कोर्ट में यह मामले अभी लंबित चल रहे हैं क्योंकि मुख्तार अंसारी पेशी पर ना आने के कई बहाने बनाते चले आ रहे हैं

Mukhtar Ansari मुख्तार अंसारी ने अदालत को यह बताया था कि अगर वह उत्तर प्रदेश की जेल में जाते हैं तो वह मार दिए जाएंगे इसलिए वह यूपी की जेल नहीं जाना चाहते लेकिन इन सारी बातों को सुप्रीम कोर्ट ने दर किनार करते हुवे आज शुक्रवार को बाहुबली मुख्तार अंसारी को यूपी के बांदा जेल में स्थानांतरित करने का आदेश पारित किया है और पंजाब सरकार से यह कहा है कि 24 दिनों में बाहुबली मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश सरकार के हवाले कर दे।

Punjab Government पंजाब की सरकार बाहुबली मुख्तार अंसारी के तरफ से यह कहा था कि बाहुबली मुख्तार अंसारी का स्वास्थ्य खराब है और यही खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर या कहा गया था पंजाब सरकार की तरफ से की बाहुबली मुख्तार अंसारी को यूपी सरकार को नहीं सौंप सकते।

जिससे पंजाब में कांग्रेस के सरकार में जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा अपने बयान पर घिर गए उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने सुखजिंदर सिंह रंधावा पर या आरोप लगाया था की वह उत्तर प्रदेश में आकर बाहुबली नेता मुख्तार अंसारी के रिश्तेदारों से मिल रहे हैं

आपको बता दें कि बाहुबली मुख्तार अंसारी जो कि पंजाब की जेल में बंद है

Mukhtar Ansari मुख्तार अंसारी आखिर क्यों बंद है पंजाब की जेल में

10 करोड़ की फिरौती मांगने के मामले में लगभग पौने दो साल पहले प्रोडक्शन वारंट पर पंजाब के मोहाली में पंजाब की पुलिस ले गई थी मोहाली के एक प्रतिष्ठित बिल्डर को स्वयं फोन करके बाहुबली मुख्तार अंसारी ने फिरौती के 10 करोड़ रुपए मांगे थे।

इसी आरोप के कारण मुख्तार अंसारी 24 जनवरी 2019 में पंजाब की एक अदालत में पेश किए गए थे उसी अदालत से इन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था तभी से वह मुख्तार अंसारी रोपण जेल में अपने दिन काट रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.