Monsoon Session: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- वैक्सीन लगवा कर 40 करोड़ से ज्यादा लोग बने ‘बाहुबली’

Spread the love

Parliament Monsoon Session: मानसून सत्र आरंभ होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने सांसदों से कोविड संबंधी सभी नियमों का पालन करने में सहयोग की अपील की.

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) मानसून सत्र (Monsoon Session) में हिस्सा लेने के लिए सोमवार को संसद पहुंचे. इस दौरान पत्रकारों से एक संक्षिप्त संबोधन में पीएम ने देश में जारी वैक्सीनेशन का जिक्र किया. उन्होंने आशा जताई कि सभी ने वैक्सीन की एक डोज ले ली होगी. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि टीकाकरण के बाद भी सभी को कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए. इस दौरान पीएम ने कहा, “टीका बाहु (बांह) में लगाया जाता है, जो इसे लेता है वह ‘बाहुबली’ बन जाता है. COVID के खिलाफ लड़ाई में 40 करोड़ से ज्यादा लोग ‘बाहुबली’ बन गए हैं. इसे आगे बढ़ाया जा रहा है. महामारी ने पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लिया है. इसलिए हम चाहते हैं कि इस पर संसद में सार्थक चर्चा हो.”

मोदी ने सांसदों से कोविड संबंधी सभी नियमों का पालन करने में सहयोग की अपील की. उन्होंने कहा, ‘कोरोना ऐसी महामारी है, जिसकी चपेट में पूरा विश्व और मानव जाति है. हम चाहते हैं कि इस संदर्भ में संसद में सार्थक चर्चा हो और प्राथमिकता के आधार पर हो. सारे सांसदों का सुझाव भी मिले. इससे कोरोना के खिलाफ लड़ाई में बहुत नयापन भी आ सकता है और यदि कमियां रह गई हों तो उन्हें ठीक भी किया जा सकता है.’

‘शांत वातावरण में सरकार को जवाब देने का मौका भी दें’
प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के मुद्दे पर वह सभी मुख्यमंत्रियों और अन्य लोगों से चर्चा करते रहे हैं. उन्होंने इस संबंध में सदन के नेताओं से भी चर्चा करने की इच्छा जताई. उन्होंने कहा, ‘संसद का यह सत्र परिणामकारी हो और सार्थक चर्चा के लिए समर्पित हो. जनता जवाब चाहती है और सरकार की भी जवाब देने की तैयारी है.’

मोदी ने सोमवार को कहा कि संसद का मानसून सत्र सार्थक चर्चा के लिए समर्पित हो, क्योंकि जनता कई मुद्दों पर जवाब चाहती है और इसके लिए सरकार पूरी तरह तैयार है. संसद के मानसून सत्र के पहले दिन पत्रकारों से चर्चा में प्रधानमंत्री ने विपक्षी दलों से तीखे से तीखे सवाल पूछने को कहा, लेकिन साथ ही आग्रह किया कि शांत वातावरण में वह सरकार को जवाब देने का मौका भी दें.