ममता बनर्जी का आरोप – जाकिर हुसैन पे दूसरी पार्टी में शामिल होने का ‘दबाव’

कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) सरकार ने राज्य के मंत्री जाकिर हुसैन (Jakir Hossain) पर बम से हुए हमले की जांच गुरुवार को अपराध जांच विभाग (CID) को सौंप दी है. पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में निमटीटा रेलवे स्टेशन पर अज्ञात हमलावरों द्वारा बुधवार की रात बम से किए गए हमले में राज्य के मंत्री जाकिर हुसैन गंभीर रूप से घायल हो गए थे.

तृणमूल कांग्रेस के जंगीपुरा से विधायक हुसैन और दो अन्य लोग हमले में घायल हुए हैं. राज्य में अप्रैल-मई में विधानसभा चुनाव होने हैं. राज्य के मंत्री फिरहाद हकीम ने बताया कि हुसैन को गुरुवार की सुबह एसएसकेएम अस्पताल लाया गया और उन्हें ‘ट्रॉमा सेंटर इकाई’ में भर्ती कराया गया है. उनके इलाज के लिए एक चिकित्सकीय बोर्ड का भी गठन किया गया है.

जांच सीआईडी का सौंप दी गई- पुलिस

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘जांच सीआईडी का सौंप दी गई हैं. एक ‘फोरेंसिक’ दल सुबह घटनास्थल भी गया था.’ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और तृणमूल के अन्य वरिष्ठ नेता भी हुसैन के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी हासिल करने सरकारी अस्पताल पहुंचे थे.

हकीम ने कहा, ‘हुसैन को ‘ट्रॉमा सेंटर इकाई’ में भर्ती कराया गया है. उनके इलाज के लिए एक चिकित्सकीय बोर्ड का भी गठन किया गया है. उनकी हालत अब स्थिर है उनकी उंगलियों और पैर में चोट आई है.’ अधिकारी ने ‘बताया कि श्रम राज्य मंत्री हुसैन बुधवार को स्टेशन के 2 नंबर प्लेटफॉर्म पर रात करीब 10 बजे कोलकाता जाने वाली ट्रेन का इंतजार कर रहे थे, जब उन पर हमला हुआ.

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘यह घटना दिखाती है कि पश्चिम बंगाल मंत्रियों के लिए भी सुरक्षित नहीं है. सरकार कानून एवं व्यवस्था कायम रखने में नाकाम है.’ इस बीच, भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी की रैली पर बुधवार की रात उत्तरी कोलकाता के बेालघटा इलाके में अज्ञात बदमाशों ने हमला कर दिय था. इस घटना में पार्टी के उत्तरी कोलकाता के जिला अध्यक्ष शिवाजी सिंघा रॉय सहित भाजपा के दो कार्यकर्ता घायल हो गए थे. दोनों अस्पताल में भर्ती हैं.

मंत्री प दूसरी पार्टी में शामिल होने का दबाव बनाया जा रहा था : ममता

वहीं मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि राज्य के मंत्री जाकिर हुसैन पर बम से हुआ हमला एक साजिश का हिस्सा था और कुछ लोग उन पर दूसरी पार्टी में शामिल होने के लिए ‘दबाव’ बना रहे थे. बनर्जी ने पत्रकारों से कहा, ‘मंत्री जाकिर हुसैन पर हमला एक सोची-समझी साजिश थी. कुछ (पार्टी के) लोग पिछले कुछ महीने से जाकिर हुसैन पर दबाव बना रहे थे, कि वह उनकी पार्टी में शामिल हों. मैं अधिक जानकारी नहीं दूंगी क्योंकि जांच जारी है.’

मुख्यमंत्री ने हमले में गंभीर रूप से घायल हुए लोगों को पांच-पांच लाख रुपये और मामूली रूप से घायल हुए लोगों को एक-एक लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है.

उन्होंने पूछा, ‘जब हमला रेलवे स्टेशन पर हुआ, तो रेलवे सुरक्षा में चूक की अपनी जिम्मेदारी से इनकार कैसे कर सकती है?’ बनर्जी ने बताया कि हमले में 26 लोग घायल हुए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.