Air travel : 01 जून से हवाई हवाई सफ़र मॅहगा , मोबाइल से भरें रिटर्न , कौन से बदलाव पर पड़ेगा आप पे असर

Spread the love

Air travel नई दिल्ली: जून माह से ऐसे कई बदलाव होने जा रहे हैं, जो हमारी जिंदगी पर असर डालने वाले साबित होंगे. इसमें सबसे बड़ा महत्वपूर्ण बदलाव तो 01 जून से ही हो रहा है, जिससे हवाई किराया (Air Fare) बढ़ जाएगा. दरअसल, सरकार ने उड़ानों की अवधि के हिसाब से न्यूनतम किराये में 16 फीसदी तक की बढ़ोतरी को मंजूरी दे दी है.

साथ ही गोल्ड हॉलमार्किंग (Gold Hallmarking) और मोबाइल से भी इनकम टैक्स रिटर्न (ITR ) भरने जैसी सुविधाएं मिल सकती हैं..इसके अलावा कई बैंकिंग बदलाव भी जून माह से लागू होने जा रहे हैं, जो बैंकिंग ग्राहकों पर असर डालेंगे..

Air travel : किराया बढ़ने से यात्रियों को झटका…

विमानन मंत्रालय ने 40 मिनट तक की उड़ान के लिये किराये (Domestic Air Fare Increase) की निचली सीमा को 2300 रुपये से बढ़ाकर 2600 रुपये कर दी है. इसमें 13 प्रतिशत की बढ़ोतरी की गई है. इसी तरह 40 मिनट से लेकर 60 मिनट की उड़ान अवधि के लिये किराये की निचली सीमा 2900 रुपये की जगह अब 3,300 रुपये प्रति यात्री होगी. Air Passenger को बढ़ा किराया देना होगा.

ITR मोबाइल से भी भर सकेंगे…
जून महीने में आपके लिए आयकर रिटर्न फाइल करने का तरीका भी बदल जाएगा. दरअसल, सीबीडीटी 7 जून से ऑनलाइन रिटर्न फाइलिंग यानी ई फाइलिंग का नया पोर्टल या वेबसाइट लांच (Income Tax Return New Portal) करने जा रही है. इसे ई-फाइलिंग 2.0 (E Filing 2.0) नाम दिया गया है. यही नहीं, 1 से 6 जून तक ई रिटर्न फाइलिंग की सुविधा भी बंद रहेगी. मोबाइल से इनकम टैक्स रिटर्न (Mobile Income Tax Return Filing) भर पाएंगे और रिफंड मिलना भी तेज होगा.

सोने की शुद्धता की हॉलमार्किंग अनिवार्य…
सरकार 15 जून से सोने की शुद्धता की गारंटी देने वाली गोल्ड हॉलमार्किंग (Gold Hallmarking 15 June) को अनिवार्य की जा रही है. 15 जून से सिर्फ 14, 18 और 22 कैरेट की गोल्ड ज्वैलरी (Gold Jewelery) ही मिलेगी. सभी पर हॉलमार्क का निशान होगा. सोने के आभूषण के कारोबारियों को बीआईएस लैब (BIS) से ज्वैलरी पर हॉलमार्क कराना अनिवार्य होगा.

आधार वेरीफाई नहीं तो पीएफ ट्रांसफर में मुश्किल
ईपीएफओ (EPFO) ने कहा है कि अगर 1 जून के बाद किसी का भविष्य निधि खाता आधार से लिंक नहीं (Aadhar Verification) है तो उसका इलेक्ट्रानिक लेनदेन नहीं हो सकेगा. ऐसे में पीएफ खाते में कंपनियों की ओर से अंशदान खाताधारक के खाते में ट्रांसफर (PF Transfer) करना संभव नहीं होगा.

बैंकिंग में भी नए बदलाव
सिंडिकेट बैंक (Syndicate Bank IFSC Code)ने 01 जून से अपने लेनदेन के लिए तमाम क्षेत्रों के आईएफएससी कोड के बदलाव को लागू कर देगा. ऐसे में सिंडिकेट बैंक के खाताधारक अपने क्षेत्र का नया आईएफएससी कोड जान लें तो मुश्किलें नहीं आएंगी. वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा चेक भुगतान (Bank Of Baroda Check Payment) के नियमों में बदलाव लागू करेगा. ऐसे में 2 लाख रुपये से अधिक के लेनदेन पर ग्राहकों से रिकन्फर्म का मैसेज आएगा, तभी इसे मंजूरी मिलेगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.