महाराष्ट्र के भंडारा डिस्ट्रिक्ट में न्यूबॉर्न केयर यूनिट (District General Hospital)में आग लगने से 10 नवाजात बच्चों की मौत

Spread the love

नागपुर. मुझे एक बार अपने बच्चे से मिलवा दो. एक बार मुझे उसको सीने से लगा लेने दो. महाराष्ट्र में भंडारा डिस्ट्रिक्ट जनरल हॉस्पिटल (District General Hospital) में हर तरफ इसी तरह की चीख पुकार सुनाई दे रही है. न्यूबॉर्न केयर यूनिट 17 नवाजात बच्चों को रखा गया था. इनमें से किसी को उम्र 5 दिन तो ​किसी की 15 दिन थी.

17 बच्चों में से 10 ने दम तोड़ा

न्यूबॉर्न केयर यूनिट में नवजात की मां को भी केवल दूध पिलाने के लिए दिन में एक या दो बार जाने की इजाजत दी जाती थी. इसी दौरान मां अपने बच्चे को जितना देख ले और दुलार कर ले. किसी को भी इस बात की खबर नहीं थी कि इन बच्चों के लिए शुक्रवार की रात अनहोनी बन जाएगी. शुक्रवार देर रात हुई इस घटना ने हर किसी को झकझोर कर रख दिया है. आग लगने के बाद अस्पताल में मौजूद नवजात के परिजन भी कुछ नहीं कर सके और देखते ही देखते 17 बच्चों में से 10 ने दम तोड़ दिया.

परिवार के सदस्यों को 5 लाख रुपये का मुआवजा

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि अभी तक जो जानकारी मिली है उसके मुताबिक तीन नवजात बच्चों की आग में झुलसने से जबकि सात की दम घुटने से मौत हुई है. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इस पूरे हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं. इस मामले में किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा. उन्होंने कहा कि प्रत्येक मृतक शिशु के परिवार के सदस्यों को 5 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा.

pm ने मृतकों के परिजनों को दी सांत्वना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने इस घटना पर दुख जताया है. उन्होंने ट्वीट के जरिए मृतक बच्चों के परिजनों को सांत्वना दी है. पीएम मोदी ने लिखा, महाराष्ट्र के भंडारा में हुई हृदयविदारक घटना में हमने नवजातों का अनमोल जीवन खो दिया. मृतकों के परिजनों को सांत्वना और घायलों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं. वहीं गृहमंत्री ने लिखा ‘भंडारा जिला अस्पताल में हुई आगजनी की घटना बेहद दुर्भाग्यपूरण है. मैं शब्दों से परे जाकर दुखी हूं, शोक संतप्त परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं. भगवान उन्हें इस दुख की घड़ी का सामना करने की शक्ति दे.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.