स्टार्टअप शुरू करने के लिए छात्रों को लखनऊ यूनिवर्सिटी करेगा ट्रेंड, नौकरी के पीछे भागने का झंझट खत्‍म

Lucknow University Update लविवि के नए परिसर में स्थित प्रबंध विज्ञान संस्थान ने शुरू की तैयारी। ट्रेंड करने के लिए नाबार्ड सूक्ष्य एवं लघु उद्योग विभाग सहित कई उद्योग जगह के एक्सपर्ट को काउंसिलिंग के लिए बुलाया जाएगा।

Lucknow University: कोविड काल में बहुत से लोगों की नौकरी चली गई। इसलिए नौकरी के पीछे भागने की बजाए अब लखनऊ विश्वविद्यालय छात्र-छात्राओं को अपना खुद का स्टार्टअप शुरू करने के लिए तैयार करेगा। इसके लिए विश्वविद्यालय के न्यू कैंपस स्थित इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट साइंस (आइएमएस) ने तैयारी शुरू कर दी है। यहां एमबीए और बीबीए के करीब 1100 छात्र-छात्राएं हैं। इन्हें ट्रेंड करने के लिए नाबार्ड, सूक्ष्य एवं लघु उद्योग विभाग सहित कई उद्योग जगह के एक्सपर्ट को काउंसिलिंग के लिए बुलाया जाएगा, जिससे बाजार की स्थिति भी पता चल सकेगी। यह ट्रेनिंग प्रोग्राम एमए अर्थ शास्त्र विभाग के विद्यार्थियों के लिए भी होगा।

लविवि का दूसरा परिसर जानकीपुरम में स्थापित है। यहां संचालित आइएमएस में एमबीए और बीबीए की पढ़ाई होती है। संस्थान के निदेशक प्रो. एमके अग्रवाल बताते हैं कि छात्र-छात्राएं 10-20 हजार रुपये की नौकरी के पीछे भागने की बजाए खुद का स्टार्टअप शुरू करें। उन्हें प्रेरित करने के लिए कोविड काल से पहले ही तैयारी शुरू कर दी थी। लेकिन लाकडाउन की वजह से प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ी। अब फिर से छात्रों को स्टार्टअप शुरू करने के लिए ट्रेंड करने की योजना बनाई है।

इनका लेंगे सहयोग: प्रो. एमके अग्रवाल ने बताया कि एमबीए, बीबीए के साथ-साथ एमए अर्थशस्त्र के छात्र-छात्राओं को स्टार्टअप की ओर प्रेरित करने के लिए उनकी काउंसिलिंग भी की जाएगी। बैंक, नाबार्ड सहित उद्योग जगत के एक्सपर्ट्स को बुलाकर छात्रों से रूबरू कराएंगे, ताकि उन्हें गाइड किया जा सके।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.