Lucknow: बुजुर्ग ने शटरिंग कारीगर को उतारा था मौत के घाट

Spread the love

-नामजद हत्यारोपित के खिलाफ  मिले साक्ष्य, गिरफ्तार
-खुलासे को लेकर खड़े हुए अनसुलझे सवाल

लखनऊ। मोहनलालगंज में शटरिंग कारीगर की हत्या कर शव कूड़े के ढेर में मिलने के मामले में पुलिस ने नामजद हत्यारोपित को गिरफ्तार कर हत्याकाण्ड का खुलासा करने का दावा किया है।

वहीं हत्यारोपी एक सप्ताह से पुलिस हिरासत में था। पुलिस का दावा है कि हत्यारोपी के खिलाफ  अहम साक्ष्य मिलें हैं। हालांकि पुलिस के खुलासे पर कुछ सवालियां निशान खड़े हुए हैं।

इंस्पेक्टर जीडी शुक्ला के मुताबिक नामजद आरोपित रमाकांत त्रिपाठी की अहम भूमिका है। आवेश में आकर उसने हत्या करने की बात कबूल की है। पूछताछ में बताया कि शादी से लौटते समय दोनों ने शराब पी। इसके बाद शौच के लिए गये थे।

इसी दौरान दोनों में शराब पीने-पिलाने को लेकर कहासुनी हुई। आवेश में आकर रमाकांत ने जीवन कश्यप के सिर पर पत्थर से वार कर दिया। जिससे जीवन कश्यप वहीं गिर पड़ा। मौके पर ही आरोपी रमाकांत ने उसे मरा हुआ समझ कर कूड़े के ढेर में दबा दिया और वहां से चलता बना।

हालांकि बुजुर्ग द्वारा 19 वर्षीय युवक की हत्या, फिर उसके शव को छिपाना और हत्या की कुछ खास वजह समेत कुछ सवाल खड़े हुए हैं।

महिला से नजदीकियां बनी हत्या की वजह

वहीं बताया जा रहा है कि हत्यारोपित के परिवार की एक महिला से शटरिंग कारीगर जीवन कश्यप (19) की बातचीत होती थी। यह बात रमाकांत त्रिपाठी और उनके परिवारीजनों को नागवार थी। इसी बात को लेकर जीवन कश्यप की हत्या की साजिश रची गई थी। कई दिनों से जीवन कश्यप की हत्या के लिए आरोपित मौका तलाश रहा था। हालांकि पुलिस ने इस बात से इंकार किया है।

शादी समारोह से लौटने के दौरान हुई हत्या

जीवन कश्यप 11 दिसंबर को पड़ोसी रमाकांत त्रिपाठी (65) के साथ स्कूटी से शादी समारोह में शामिल होने के लिए गया था। देर रात तक जीवन नहीं लौटा। परिजनों ने रमाकांत से पूछताछ की गई तो उसने बताया कि ढाबे के पास जीवन ने उसे छोड़ दिया था।

उसके बाद रविवार दोपहर मोहनलालगंज बस अड्डे के पास एक प्लाटिंग साइट पर जेसीबी से कूड़ा हटाने के दौरान जीवन कश्यप का शव पड़ा मिला था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जीवन कश्यप की हत्या किए जाने की पुष्टि हुई थी। इसके बाद उसके परिवारीजनों ने रमाकांत के खिलाफ तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया था।

पुलिस आरोपी को हिरासत में लेकर तफ्तीश में जुट गई। पड़ताल में यह बात भी सामने आयी थी कि ढाबे पर रमाकांत और जीवन कश्यप ने शराब पी थी। शराब पीने के दौरान झगड़ा भी हुआ था। झगड़े के दौरान ही जीवन कश्यप की हत्या की गई और फिर शव को छुपाने के लिए प्लाट में फेंककर उसके ऊपर कूड़ा डाल दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.