Lucknow : खाकी के सख्त पहरे के बीच घरों में गूंजी या हुसैन की सदाएं

Spread the love

Lucknow : पुराने शहर में खुराफातियों पर नजर रखने के लिए पुलिस फोर्स तैनात

लखनऊ : पुराने शहर में हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम समेत कर्बला के 72 शहीदों का चेहल्लुम खाकी के सख्त पहरे के बीच मनाया गया। अजादारों ने नम आंखों से कर्बाला के मंजर को याद कर अलम को उठाया।

जी हां, इस बार भी कोविड—19 की वजह से चेहल्लुम का जुलूस नहीं उठ सका,लेकिन कोविड—19 की प्रोटोकॉल के तहत शहर की मातमी अंजुमनें ने तालकटोरा रोड स्थित कर्बला में अपने अलम मुबारक के साथ नौहाख्वानी कर शहीदों की शहादत को पुरसा पेश किया। आपको बतातें चलें कि,सोमवार की रात पुलिस ने संवदेनशील इलाकों में फ्लैग मार्च ​किया था।

इसके बाद से पुराने शहर में पुलिस फोर्स के अलावा आरआरएफ, आरएफ, पैरामिलिटी फोर्स, पीएसी जवान समेत एनएसडी कमांडो की टीम को मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में मुश्तैद किया गया। इसके अलावा रात से ही कर्बाला की तरफ जाने वाले सभी रास्तों पर बैरिकेडिंग लगा दी गई, ताकि कोई भी खुराफाती माहौल को बिगाड़ने की कोशिश न करें ।

सुबह होते ही अफसर सड़क पर उतर आए और शहर का जायजा लेने के साथ सुरक्षा व्यवस्था में जुट गए। तो वहीं चेहल्लुम पर आसिफी इमामबाड़ा समेत छोटा इमामबाड़ा भी बंद रहा। जिसको देख पर्यटक मायूस होकर लौट गए।

Lucknow : घरों में चलता रहा मजलिसों मातम

दरअसल, वैश्विक महामारी के चलते चेहल्लुम के जुलूस पर भले ही पाबंदी लगा दी गई हो,लेकिन पुराने शहर में खाकी के पहरे के बीच देर रात तक मजलिस—ओ मातम का सि​लसिला जारी रहा। वहीं ऑनलाइन मजलिसों के ​जरिए हर घर में या हुसैन की सदाओं की गूंज सुनाई पड़ी।

आपको बाते चलें कि राजधानी के चेहल्लुम का जुसूल काफी प्रसिद्ध है। कई शहरों की शिया हजरात इस जुलूस में शिरकत करती है। लेकिन कोविड—19 के मद्देनजर इस बार भी चेहल्लुम के जुलूस पर पाबंदी लगा दी गई थी।

200 अंजुमनें सजती थीं

​शिया हजरात के आमिर साबिरी बताते हैं कि राजधानी लखनऊ में हर साल नाजिम साब के इमामबाड़े, बजाजा से चेहल्लुम का जुलूस उठता था। जोकि तालकटोरा के कर्बाला पर खत्म होता है।

​इसमें ढाई सौ से ज्यादा अंजुमन सजती थी, जिसमें लाखों की तादाद में शिया हजरात ​शरी​क होते हैं। बताया ​कि चेहल्लुम हजरत इमाम हुसैन अलैहिस्सलाम का चालीसवां होता है। मुहर्रम के दिन कर्बाला के मैदान में उन्हें शहीद कर दिया गया था।