Lucknow : ठेकेदार पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर मौत के घाट उतारा, पांच दिनों में चौथी बड़ी घटना से शहर में दहशत का माहौल

Spread the love

लखनऊ। राजधानी में बदमाश लगातार पुलिस कमिश्नरेट को एक के एक चुनौती दे रहे हैं। सप्ताहभर के अन्दर ही बदमाशों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर हत्या,जानलेवा हमला और लूट की चार वारदातों को अंजाम देकर पुलिस की कार्य प्रणाली पर सवालियां निशान खड़े कर दिये हैं।

अलीगंज में ज्वैलर्स लूटकांड,जानकीपुरम में खनन कारोबारी की हत्या,तालकटोरा में मुतवल्ली पर फायरिंग के बाद रविवार शाम को कृष्णानगर में बदमाशों ने ठेकेदार पर ताबड़तोड़ फायर झोक दिया।

गोलियों की तड़तड़ाहट से इलाके में हड़कंप मच गया। वहीं बदमाश वारदात को अंजाम देकर फायर झोकते हुए आसानी से भाग निकले।

सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने लहूलुहान हालत में ठेकेदार को लोकबंधु अस्पताल पहुंचाया, जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस को मौके से एक खोखा और दो कारतूस, ठेेकेदार की बाइक, पर्स और मोबाइल फोन मिला है, जिसे कब्जे में ले लिया है।

डीसीपी मध्य ख्याति गर्ग ने बदमाशों को पकडऩे के लिए पुलिस की टीम को लगाया है।

कृष्णानगर के विजयनगर में अनिल शुक्ला का पुराना मकान है। जिसे तोड़कर निर्माण कराया जाना है। मकान को तोड़कर निर्माण कराने के लिए अनिल शुक्ला ने काकोरी निवासी महेन्द्र प्रताप को ठेका दे रखा है। महेन्द्र रविवार को मकान तोड़वा रहे थे।

शाम करीब 5:30 बजे मकान के पास की मौजूद थे। इसी दौरान बाइक सवार दो बदमाश पहुंचे और उन पर ताबड़तोड़ फायर झोक दिया। बदमाशों को पकडऩे के लिए ठेकेदार के साथ काम करने वाले लोगों ने बदमाशों को पकडऩे रोकने का प्रयास किया तो उन पर भी असलहा तान दिया।

वहीं बदमाश बाइक से फर्राटा भरते हुए चंद मिनटों में भाग निकले। सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने महेन्द्र प्रताप जायसवाल को लोकबंधु अस्पताल में पहुंचाया जहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया।

मौके पर पहुंचे पुलिस के आलाधिकारियों ने कई थानों की फोर्स के साथ नाकाबंदी कर तलाश की लेकिन बदमाशों का सुराग नहीं लग पाया। डीसीपी मध्य ख्याति गर्ग ने बताया कि मृतक व्यक्ति के जेब से मिले आधार कार्ड और मोबाइल नम्बर से ठेकेदार की पहचान महेन्द्र प्रताप निवासी काकोरी के रूप में हुई है।

बदमाशों ने तीन से चार गोली महेन्द्र पर दागी हैं। आसपास के सीसीटीवी फुटेज खंगाल बदमाशों की तलाश की जा रही है।

रंजिश समेत अन्य बिन्दुओं पर जांच-पड़ताल

सूत्रों की माने तो अनिल शुक्ला जिस मकान को तोड़वा रहे हैं वह विवादित है। साथ ही ठेकेदारी को लेकर भी कई लोगों से महेन्द्र प्रताप जायसवाल की रंजिश है। बताया जा रहा है कि ठेकेदारी को लेकर भी महेन्द्र का कई लोगों से पहले भी विवाद हो चुका है।

सीसी कैमरे में कैद बदमाश बाइक पर बैठे दिख रहे हैं। बाइक चला रहे बदमाश ने हेलमेट पहना था और नीले रंग की जींस की जैकेट और पीली पैंट पहने है। वहीं, पीछे बैठे बदमाश ने गाजरी रंग की जैकेट पहन रखी है। जैकेट की टोपी उसने लगा रखी है।

कृष्णानगर इंस्पेक्टर ने बताया कि अनिल शुक्ला का पुस्तैनी मकान है। मकान विवादित होने की पुष्टिï नहीं हुई है। महेन्द्र प्रताप के पास से दो आधार कार्ड मिले हैं। जिसमें एक का पता काकोरी व दूसरे में सआदतगंज का पता है। परिजनों को सूचना दे दी गई है। सभी बिन्दुओं पर जांच-पड़ताल की जा रही है। तहरीर के आधार पर आगे की कार्रवाई की जायेगी।

कोतवाली से पांच सौ मीटर की दूरी पर घटना से दहशत 

 कोतवाली से पांच सौ मीटर दूर ठेकेदार की गोली मारकर हत्या किए जाने से इलाके में दहशत है।

घटना के बाद आस-पड़ोस में रहने वाले लोग भी घरों के अंदर चले गए। मुहल्ले में सन्नाटा पसर गया। पुलिस महेंद्र के मोबाइल की काल डिटेल की पड़ताल कर रही है।

सप्ताहभर में फायरिंग की चौथी बड़ी घटना

राजधानी लखनऊ में 4 दिनों के अंदर गोली चलने की यह चौथी वारदात है। 8 तारीख को अलीगंज थाना क्षेत्र में मोटर साइकिल सवार बदमाशों के द्वारा तिरुपति ज्वेलर्स के कर्मचारी श्रवण कुमार को गोली मारकर आधा किलो सोना लूटा गया था।

दूसरे दिन गुरुवार की देर रात जानकीपुरम थाना क्षेत्र में बीकेटी के रहने वाले खनन कारोबारी 25 वर्षीय सुभाष सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

शनिवार की शाम तालकटोरा थाना क्षेत्र के कर्बला तालकटोरा के पास शिया वक़्फ़ बोर्ड के सदस्य सैयद फैजी पर उस समय कई राउंड गोलियां चलाई गई थी जब वह अपने मित्र सोनू और 2 सुरक्षा गार्डों के साथ अपने कार्यालय से अपने घर जा रहे थे ।

जिसमें उनके मित्र सोनू के हाथ में गोली लगी थी । हालांकि जानकीपुरम थाना क्षेत्र में हुई हत्या की घटना का पुलिस खुलासा कर चुकी है लेकिन अलीगंज और तालकटोरा क्षेत्र में गोलीकांड की घटनाओं को अंजाम देने वाले अपराधियों की पहचान अभी नहीं हो पाई है ।