Crime in Lucknow : कैब चालक ने पत्नी को लोहे की रॉड से पीटकर मार डाला

Spread the love

Crime in Lucknow : हत्या के बाद आत्महत्या का रचा स्वांग-आलमबाग पुलिस ने किया गिरफ्तार

लखनऊ। कैब संचालक ने मंगलवार की सुबह अपनी पत्नी की लोहे की रॉड से पीटकर हत्या कर दी। इसके बाद पुलिस को फोन करके बोला कि पत्नी की हत्या कर दी और मैं भी मरने जा रहा हूं।

सूचना मिलते ही हरकत में आयी पुलिस आनन-फानन में उसके घर पहुंच गई, जहां वो फंदे से लटका मिला। पुलिस ने उसे नीचे उतारकर अस्पताल पहुंचाया। लोकबंधु अस्पताल में जांच में युवक कोविड पॉजिटिव निकला।

फिलहाल, उसकी हालत ठीक बतायी जा रही है। पुलिस ने आरोपी पति को हिरासत में लेने के बाद मृतका के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस ने हत्या में प्रयुक्त लोहे की रॉड बरामद कर ली है।

आलमबाग एसीपी अन्निध विक्रम सिंह ने बताया कि आलमबाग कोतवाली इलाके के बडा बरहा मकान संख्या 549/240 में कैब चालक सुशील यादव पत्नी मीरा यादव 35 वर्ष के साथ रहता था।

मंगलवार सुबह कहासुनी होने पर उसने पत्नी पर लोहे की रॉड से कई वार कर हत्या कर दी। जिसके बाद घबराये पति ने पुलिस को कन्ट्रोल रूम पर सूचना दी कि उसने पत्नी की हत्या कर दी है अब वह भी फांसी लगाने जा रहा है।

सूचना मिलते ही पुलिस आनन फानन मौके पर पहुंची। पुलिस ने देखा कि सुशील गले में फंदा डाले हुए लटक रहा है। पुलिस ने सुशील को पकड़ा और फंदे से उसे नीचे उतारा। हालत बिगड़ती देख सुशील को लोकबंधु भेजा।

सुशील का लोकबंधु में इलाज चल रहा है। आलमबाग इंस्पेक्टर ने बताया कि कमरे में खून से लथपथ हालत में राधिका का शव पड़ा था। उसके सिर पर गंभीर चोट थी। पास ही एक लोहे का राड पड़ा था। लोहे के राड से राधिका के सिर पर प्रहार किया गया था।

पुलिस ने आरोपी पति को हिरासत में लेने के बाद मृतका के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। आलमबाग इंस्पेक्टर ने बताया कि राधिका को कोई संतान नहीं थी। दोनों में इस बात को लेकर अक्सर झगड़ा होता रहता था।

हत्या की जानकारी होने पर थाने पहुंचे मृतका मीरा यादव की बहन शिवानी यादव ने बताया कि उसकी बहन का विवाह बीती नौ मार्च 2009 को सुशील यादव के संग हुआ था। विवाह के कुछ समय बाद ही पति पत्नी में अनबन के कारण लगभग पांच वर्षों तक अलग अलग रहते थे।

कोर्ट द्वारा समझौते के बाद बहन और मैं उसका पति एक साथ रहने लगे थे। लेकिन आरोपी पति शुशील अपनी आदतों से बाज नहीं आया और अपनी पत्नी को बेरहमी से मारता पीटता था। मंगलवार को उसने मौत के घाट उतार दिया।

Crime in Lucknow : ददिया ससुर से लिए थे रुपये

खदरा निवासी शोभावती यादव के मुताबिक उनके ससुर मेवालाल ने एक जमीन बेची थी। यह बात पता चलने पर सुशील लगातार ददिया ससुर मेवालाल से रुपये मांग रहा था। दामाद के कई बार कहने पर मेवालाल ने उसे एक कार खरीद कर दी थी।

वहीं, ददिया सास राम कली ने मकान बनवाने के लिए ढाई लाख रुपये सुशील को दिए थे। कहा था कि गाड़ी चलाने से जो पैसे मिलेंगे, उससे 10 हजार रुपए महीना दूंगा। लेकिन बाद में उसे देने से मुकर गया था।

यह बात मीरा को काफी वक्त बाद पता चली थी। वह घर के राशन का सामान भी नहीं लाता था। परिजनों ने आरोप लगाया कि उनके परिवार में एक भाभी हैं, जिनके पति की मौत हो चुकी है। उससे सुशील का चक्कर चलता था। इन्हीं कारणों को लेकर उसका रोज घर में विवाद होता था।

हत्यारा निकला कोरोना पाजटिव

पुलिस की हिरासत में आए आरोपी सुशील मेडिकल के दौरान कोरोना संक्रमित पाया गया है। जिसे उपचार के लिए लोकबंधु अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जिस कारण आरोपी से किसी प्रकार की पूछताछ नहीं हो सकी है। आरटीपीसीआर की जांच कराने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।