दारोगा की करीबी महिला की मौत के मामले में उलझी गुत्थी

Spread the love

-हत्या व आत्महत्या पर संशय बरकरार

लखनऊ। राजधानी के चिनहट थाना क्षेत्र स्थित ओमेगा अपार्टमेंट के आठवीं मंजिल पर संदिग्ध हालात में गोली लगने से हुई दारोगा राहुल राठौर की करीबी महिला ममता की मौत के मामले में पुलिस की गुत्थी उलझती जा रही है। हालांकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में नजदीक से गोली मारे जाने की पुष्टिï हुई है।

पुलिस अब तक तफ्तीश में मौत का कारण आत्महत्या मान रही है। हालांकि अवैध असलहे का ममता के पास होना व सुसाइड नोट लेखनी का मिलान समेत अन्य साक्ष्यों पर पुलिस तहकीकात कर रही है।  

चिनहट इंस्पेक्टर के मुताबिक अभी यह स्पष्ट नहीं कहा जा सकता कि ममता की मौत आत्महत्या है या फिर उसकी हत्या की गई थी। पुलिस का कहना है कि फारेंसिक रिपोर्ट से मौत की गुत्थी सुलझ जाएगी। हालांकि परिवार की ओर से अभी तक कोई तहरीर नहीं दी गई है। पुलिस ने सुसाइड नोट की पुष्टि करने के लिए हैंडराइटिंग विशेषज्ञ से सलाह मांगी है। प्रारंभिक छानबीन में पता चला है कि सुसाइड नोट की हैंडराइटिंग ममता की है। हालांकि विशेषज्ञ की रिपोर्ट के बाद पुलिस किसी नतीजे पर पहुंचेगी।

अभी तक कोई आरोप नहीं

गौरतलब है कि रविवार को गोली लगने से ममता सिंह की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। ममता के बाएं कनपटी पर गोली लगी थी। पूछताछ में राहुल ने पुलिस को बताया कि ममता ने दरवाजा बंद कर लिया था, जिसे तोड़कर वह भीतर दाखिल हुए थे। कमरे में ममता लहूलुहान पड़ी थी। वहीं पास में अवैध पिस्टल पड़ा था। ममता और दारोगा राहुल राठौर फरवरी माह से एक साथ रह रहे थे। ममता के पति पवन कुमार ने भी किसी पर अभी तक कोई आरोप नहीं लगाया है।

सलावों के जवाब में उलझी पुलिस

पूछताछ में दारोगा ने पुलिस को बताया है कि ममता से उसकी कुछ दिन से अनबन चल रही थी। ममता किसी बात को लेकर परेशान थी, इसीलिए शनिवार रात में वह अपने कमरे में अकेले ही सो गई थी। देर रात में ममता ने नौकरानी को फोन भी किया था और सुबह आकर समय से खाना बनाने के लिए कहा था। हालांकि शनिवार देर रात से रविवार सुबह के बीच ममता और राहुल के बीच क्या हुआ था, इसके बारे में पुलिस कुछ स्पष्ट नहीं कर सकी है। फिलहाल इस पूरे घटना को लेकर कई सवाल खड़े हुए हैं, जिनके जवाब पुलिस तलाश रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.