मुनाफे का लालच देकर चिटफंट कम्पनी ने लाखों हड़पे

Spread the love

विकासनगर थाने में निवेशकों ने दर्ज कराया मुकदमा

लखनऊ। ट्रिनिटी मल्टी क्रेडिट सोसाइटी के नाम से चल रही चिटफंड फर्म के खिलाफ  निवेशकों ने 21 लाख रुपये हड़पने के मामले में विकासनगर थाने में मुकदमा दर्ज कराया है। वहीं करोड़ों रुपये हड़प चुकी फर्म के निदेशक को पुलिस ने वर्ष 2020 में गिरफ्तार किया था। बावजूद इसके चिटफंड फर्म से जुड़े एजेंट निदेशक की गिरफ्तारी के बाद भी निवेश कराए जाने का आरोप है।

दिल्ली शाहीन बाग निवासी आफताब जैदी के मुताबिक विकासनगर टेढ़ीपुलिया स्थित रॉयल बिल्डिंग में ट्रिनिटी मल्टी स्टेट क्रेडिट सोसाइटी का दफ्तर है। जिसकी ब्रांच कई जिलों में फैली हुई है। आफताब के अनुसार सोसाइटी में आरडी, एफडी, दैनिक जमा और सुकन्या योजना में लोगों से निवेश कराया जाता था। आफताब ने भी कम्पनी में 50 हजार रुपये लगाए थे।

एक साल का समय पूरा होने के बाद उन्हें रुपये नहीं लौटाए गए। पूछताछ करने पर धमकी दी जाने लगी।

इसी तरह सिद्धार्थनगर निवासी अनूप कुमार चतुर्वेदी ने दस लाख, विकासनगर निवासी सुभाष चंद्र पाल से पांच लाख और कानपुर सुजातगंज निवासी अब्दुल हलीम ने पांच लाख का निवेश किया था। इन लोगों को भी कम्पनी निदेशक अरुण कुमार ने रुपये नहीं लौटाए।

पूछताछ करने पर सोसाइटी के एमडी रामकेश शर्म, माया त्रिवेदी, प्रशांत रंजन श्रीवास्तव, अनिल शर्मा, गोपाल सिंह, संतोष अग्रहरि, अनूप शर्मा, अरविंद पांडे, विजय शंकर गुप्ता, शकुंतला, बजरंगी पाठक और अरुण कुमार ने धमकी देते हुए निवेशकों को भगा दिया था। पीडि़तों ने तहरीर देकर विकासनगर थाने में केस दर्ज कराया है।

वहीं बताया जा रहा है कि अब तक फर्म ने निवेश के नाम पर करोड़ों रुपये हड़प चुकी है। इंस्पेक्टर आनन्द तिवारी के मुताबिक अरुण कुमार को मार्च 2020 में गिरफ्तार किया गया था। अन्य आरोपियों के खिलाफ जांच-पड़ताल कर कार्रवाई की जा रही है।