सावधान! कहीं आपके खाते से निकल न जाए पेंशन, सत्‍यापन के नाम पर खेल कर रहे जालसाज

लखनऊ। अगर आप पेंशन धारक हैँ और आपने अब तक जीवित प्रमाणपत्र कोषागार को नहीं दिया है तो बेहद सावधान बरतने की जरूरत है। सत्यापन कराने के नाम पर तमाम जालसाज भी सक्रिय हैं जो वरिष्ठ नागरिकों को अपने जाल में फंसाकर उनकी पेंशन ही खाते से निकाल रहे हैं। लखनऊ में तीन ऐसे मामले सामने आने के बाद कोषागार अधिकारियों ने एडवाइजरी जारी की है।

सरकारी सेवा से रिटायर के बाद आजीवन पेंशन के लिए हर साल पेंशनर्स को अपना जीवित प्रमाणपत्र कोषागार के समुख पेश करना पड़ता है। कोरोना के चलते इस साल तमाम पेंशनर्स ने अब तक जीवित प्रमाणपत्र नहीं दिया है। सरकार ने पेंशनर्स को संक्रमण से बचाने के लिए इस बार नयी व्यवस्था के तहत डाक विभाग की मदद ली। डाकिया पेंशनर्स के घर जाकर सत्यापन करके कोषागार तक पहुंचा रहा है। इसके लिए बाकायदा शुल्क निर्धारित किया गया है। लेकिन इसकी आड़ में कई जालसाज भी सक्रिय हैं जो पुलिस कर्मी या डाकिया बनकर पेंशनर्स के घर जाकर प्रमाणपत्र के नाम पर उनकी चेक और दूसरी जरूरी बैंक दस्तावेज लेकर खाते से रकम ही गायब कर दे रहे हैं।

कलेक्ट्रेट कोषागार अधिकारी एमके तिवारी ने शुक्रवार को इस बारे में एक एडवाइजरी जारी की है। त्रिपाठी के मुताबिक तीन ऐसे मामले सामने आए हैं जहां पर जालसाज सत्यापन के बहाने पेंशनर्स के चेक और दूसरे जरूरी दस्तावेज लेकर निकल गए। कोषागार अधिकारी के मुताबिक पूरी तरह आश्वस्त होने के बाद ही कर्मचारी को आने दें। उसे किसी तरह के चेक या बैंक संबंधी कोई जानकारी भी नहीं दें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.