कोतवाली पहुंची महिला ने अपनी पत्नी को परिवार के कैद से छुड़वाने की लगाई गुहार

Spread the love

 तीन माह पहले दोनों युवतियों ने एक-दूसरे से की थी शादी

लखनऊ । सूबे की राजधानी लखनऊ के ठाकुरगंज थाना क्षेत्र में समलैंगिकता का एक चौंका देने वाला मामला सामने आया है। ठाकुरगंज कोतवाली पहुंची युवती ने जब पुलिस से यह कहते हुए फरियाद किया कि हमारी पत्नी को उसके घरवालों के कैद से छुड़वा दीजिए तो यह सुनकर पुलिसवाले कुछ देर के लिए चकरा गये। काफी मशक्कत के बाद पुलिस ने पूरी बात समझते हुए उनके परिजनों को बुलवाया और पूरी जानकारी ली। इसके बाद दोनों परिजनों ने आपसी समझौता कर लिया। बताया जा रहा है कि तीन माह पहले ही दोनों युवतियों ने एक-दूसरे से शादी की थी। जिसका परिवार लगातार विरोध कर रहा है।

news24on
news24on

ठाकुरगंज दुबग्गा निवासी एक युवती मंगलवार शाम भागी-भागी कोतवाली पहुंची। युवती ने पुलिस से  मदद की गुहार लगाई। युवती ने बताया कि पिछले एक साल से उसका क्षेत्र के ही एक युवती के साथ प्रेम-प्रसंग चल रहा था, लेकिन परिवार वाले इसका विरोध कर रहे थे। इस बीच बीते 17 नवंबर 2020 को बुद्धेश्वर मंदिर में दोनों युवतियों ने आपस में शादी कर ली। आरोप है कि परिवारवाले दोनों पर रिश्ते को खत्म करने का दबाव बना रहे हैं। इसी बीच एक युवती के परिवारवालों ने दोनों को घर में बंद कर दिया। मोबाइल फोन तक छींन लिया। किसी तरह एक युवती छत से कूदकर बाहर निकली और सीधे थाने पहुंची। दूसरी युवती वहीं घर में ही कैद रह गई। युवती ने थाने में बताया कि हमें कैद करके मारा-पीटा गया है। किसी तरह मैं जान बचाकर वहां से भाग निकली, पर मेरी पत्नी अभी भी कैद में है। परिजन उसे बाहर नहीं निकलने दे रहे हैं। हम दोनों अकेले रहना चाहते हैं। परिवार से अलग अपनी जिंदगी बिताना चाहते हैं।

परिवार वालों के बीच हुआ सुलह-समझौता

इंस्पेक्टर ठाकुरगंज सुनील दुबे ने बताया कि दोनों बालिग हैं। दोनों शादी कर चुकी हैं। साथ रहना चाहती हैं, लेकिन परिवारवाले इसका विरोध कर रहे थे। प्रार्थना पत्र के आधार पर दूसरी युवती को भी घर से छुड़वा लिया गया। परिवारों ने इसका विरोध किया,लेकिन युवतियां अलग रहने को तैयार नहीं थी। आखिर में पुलिस ने दोनों युवतियों के परिवार वालों के बीच सुलह-समझौता करवाया। बतातें चलें कि सुप्रीम कोर्ट ने 6 सितंबर 2018 को समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटा दिया है। इसके अनुसार आपसी सहमति से दो वयस्कों के बीच बनाए गए समलैंगिक संबंध को अब अपराध नहीं माना जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.