केजीएमयू लखनऊ में अब खून की जांचें होंगी सस्ती, जानें कीमतें अब क्या होगी

Spread the love

लखनऊ केजीएमयू में खून की जांचें सस्ती होंगी। जांच की कीमतों में कमी लाने का खाका केजीएमयू प्रशासन ने तैयार कर लिया है। सस्ती दवा के लिए हॉस्पिटल रिवॉल्विंग फंड की तर्ज पर पैथोलॉजी जांच के लिए इंवेस्टिगेशन रिवॉल्विंग फंड बनाया जाएगा। इसके तहत किट और रसायन आदि की खरीद-फरोख्त होगी। जो कि मौजूदा कीमत से सस्ता होने की उम्मीद है। इस प्रस्ताव को केजीएमयू कार्यपरिषद ने भी मंजूरी दे दी है।

Foods To Improve Digestion: रात में खाएं ये चार चीजें, पाचन तंत्र रहेगा बेहतर

केजीएमयू की ओपीडी में तीन से चार हजार मरीज रोज आ रहे हैं। इनमें 60 से 70 प्रतिशत मरीजों को पैथोलॉजी व रेडियोलॉजी संबंधी जांचें कराने की सलाह डॉक्टर देते हैं। ट्रॉमा सेंटर व ओपीडी में करीब 200 से 250 मरीज प्रतिदिन भर्ती किए जा रहे हैं। इनमें 90 प्रतिशत से ज्यादा मरीजों की खून की जांचें कराई जाती हैं। केजीएमयू कुलपति डॉ. बिपिन पुरी ने बताया कि पैथोलॉजी जांच में इस्तेमाल होने वाली किट और रसायन खरीदने की नई व्यवस्था का खाका तैयार किया गया है। इनवेस्टिगेशन रिवॉल्विंड फंड (आईआरएफ) का गठन किया जाएगा। यह हॉस्पिटल रिवॉल्विंग फंड (एचआरएफ) की तरह काम करेगा। एचआरएफ में सीधे नामचीन कंपनियों से दवाएं खरीदी जाती हैं। मरीजों को एचआरएफ के मेडिकल स्टोर पर 60 से 70 प्रतिशत कम कीमत पर दवाएं मुहैया कराई जाती हैं।

किट-रसायन की किल्लत कम होगी

कुलपति ने कहा कि जब रसायन और किट केजीएमयू को सस्ती दर पर मिलेगी। फलस्वरूप, उसका फर्क जांच की कीमत पर भी पड़ेगा। अभी यह नहीं कहा जा सकता है कि कीमतों में कितनी कमी की जा सकेगी। पर, जांच की कीमत जरूर कम होंगी। साथ ही किट व रसायन आदि की किल्लत का भी सामना नहीं करना पड़ेगा।

400 तरह की होती हैं जांच

अधिकारियों का कहना है कि केजीएमयू में जांच की दरें प्राइवेट पैथोलॉजी से काफी कम हैं। जैसे कम्प्लीट ब्लड काउंटर 100 रुपये में हो रहा है। लिवर फंग्शन टेस्ट की कीमत 120 रुपये है। यूरिया व क्रिटनाइन 60 रुपये में हो रहा है। खून में ऑक्सीजन की मात्रा पता करने के लिए एबीजी जांच 100 से 120 रुपये में हो रही है। ब्लड यूरिया 20 रुपये में हो रहा है। सिर के पानी सीएफएफ जांच 100 रुपये में हो रही है। एचडीएल कोलेस्टॉल 55 रुपये व प्लेटलेट्स काउंट 25 रुपये में हो रहा है। अधिकारियों के मुताबिक पैथोलॉजी, बायोकेमेस्ट्री व माइक्रोबायोलॉजी समेत दूसरे विभागों में करीब 400 तरह की खून की जांचें होती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.