बच्चों के सुखद भविष्य को हमें ही करने होंगे प्रयास

Spread the love

पल्स पोलियो अभियान का रविवार को शुभारंभ हो गया। 100 शैय्या अस्पताल में सीएमओ डा. एके पांडेय ने बच्चे को दवा पिलाकर अभियान का शुभारंभ किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि अभिभावक की जिम्मेदारी है कि वे बच्चों को पोलियो की दवा पिलाने के साथ समाज को जागरूक करने का कार्य भी करें।

सीएमओ ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान टीकाकरण कार्यक्रम भी प्रभावित हुआ। शिशुओं को समय पर उपचार मिले और उन्हें पोलियो जैसी बीमारी से सुरक्षित किया जा सके, इसके लिए पोलियो अभियान की शुरुआत कराई गई है। पूरे जिले में 987 बूथों पर दवा पिलाई जा रही है। एसीएमओ डा. जीपी शुक्ला ने कहा कि इस बार जिले में 3,31,011 बच्चों को चिन्हित किया गया है। बूथों पर न पहुंचने वाले बच्चों की अलग से सूची तैयार कराई जाएगी। एएनएम आदि टीमें अपने-

अपने क्षेत्रों में भ्रमण कर छूटे हुए बच्चों को उनके घर पर जाकर दवा पिलाएंगी। दो, चार और छह फरवरी को यह कार्यक्रम संचालित होगा। जिन बच्चों को दवा पिलाई जाएगी, प्रतिदिन शाम के समय में उनकी सूची राज्य इकाई को भेजी जाएगी।

इस मौके पर जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. राकेश कुमार, एसीएमओ डा. संजीव बहादुर, नोडल अधिकारी डा. पपेंद्र कुमार, डा. एसपी सिंह, सीएमएस डा. एके पचौरी, डीपीएम संजीव वर्मा, संजीव पांडेय, शैलेंद्र पाल सिंह, संजय पंकज शर्मा, प्रताप सिंह, प्रीतू चौहान, तन्वी उपाध्याय, विमल चौहान, कौशलेंद्र चौहान, अनिल तोमर मौजूद थे

कारागार में हुआ बंदियों का स्वास्थ्य परीक्षण

कारागार में निरुद्ध बंदियों के स्वास्थ्य की जांच के लिए शनिवार को शिविर लगाया गया। जिला अस्पताल के चिकित्सकों ने बंदियों की जांच की.

अस्थि रोग विशेषज्ञ डा. आदर्श सेंगर ने हड्डियों के दर्द से संबंधित जांच की। उन्होंने कहा कि इस मौसम में ज्वाइंट्स में दर्द की शिकायत अक्सर रहती है। बुजुर्गों के अलावा डायबिटीज या दूसरी बीमारियों के मरीजों को खासी सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। यहां लगभग दो दर्जन बंदियों ने हड्डियों में दर्द की बात बताई। बंदियों को दवाओं के साथ नियमित आहार लेने और प्राणायाम व व्यायाम करने की सलाह दी गई।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.