पुलिस कमिश्नरेट की दो थानों की फोर्स ने तीन बांग्लादेशी डकैतों को मुठभेड़ में दबोचा

Spread the love

-चिनहट मल्हौर में पुलिस ने घेराबंदी कर बदमाशों को दबोचा
-कबाड़ी और चाय वाला बनकर करते थे रेकी 

लखनऊ। चिनहट के मल्हौर में रविवार देर रात पुलिस की बदमाशों से मुठभेड़ हो गई। जवाबी फायरिंग में दो बदमाशों के पैर में गोली लगी।

पुलिस ने भाग रहे एक आरोपी को भी मौके से दबोच लिया। घायल बदमाशों का डॉ.राम मनोहर लोहिया अस्पताल में इलाज भर्ती कराया गया।

मुठभेड़ में एक सिपाही के हाथ में भी चोट आई है। वहीं पुलिस का दावा है कि बदमाश डकैती की योजना बना रहे थे। पुलिस के मुताबिक बदमाशों की संख्या 11 थी। जिसमें से तीन पकड़ लिए गए हैं।

चिनहट थाना क्षेत्र स्थित विकल्प खंड रेलवे पटरी के पास देर रात पुलिस गश्त कर रही थी। इसी दौरान पुलिस को कुछ संदिग्धों के झाडिय़ों में छिपे होने की आहट मिली। इसी दौरान पुलिस को देख कुछ संदिग्ध मल्हौर स्टेशन की ओर भागने लगे।

पुलिसकर्मियों ने आलाधिकारियों को सूचना देकर बदमाशों के पीछे निकल पड़ी। थोड़ी ही देर में पूर्वी जोन की क्राइम टीम व गोमतीनगर पुलिस बल मौके पर पहुंची और बदमाशों को पकडऩे के लिए घेराबंदी कर दी। चिनहट इंस्पेक्टर के मुताबिक खुद को घिरता देख बदमाश फायरिंग करने लगे। इस दौरान जवाबी फायरिंग में दो बदमाशों के पैर में गोली लगी जिसे पकड़ लिया गया।

वहीं भाग रहे एक और बदमाश को पुलिस टीम ने दबोच लिया। बदमाशों की फायरिंग में सिपाही रिंकू कुमार को भी चोटे आयी हैं। घायल बदमाशों ने अपना नाम शेख रुबिल और आलम उर्फ अल अमीन बताया है। जबकि तीसरे साथी ने अपना नाम रबीउल बताया है। पकड़े गये तीनों बदमाश बांग्लादेशी हैं।

बदमाशों के पास से दो असलहा,कारतूस, नुकीला औजार,दो जोड़ी पायल सफेद धातू, तीस हजार 600 रुपया, पांच हजार बंग्लादेशी मुद्रा समेत अन्य दस्तावेज बरामद हुए हैं।

इंस्पेक्टर ने बताया कि बदमाशों के साथी हमजा,असलम,नासिर, शाहीन, बिलाल,नूर इस्लाम,शुमान व नूर खान फरार हैं। पुलिस टीम फरार बदमाशों की तलाश में जुटी है।

रेलवे ट्रैक के आसपास वाले घरों को बनाते थे निशाना

पूछताछ में बदमाशों ने बताया कि हम लोग बांग्लादेश-भारत बार्डर पर नदी पार कर 24 परगना (पश्चिम बंगाल) बार्डर से प्रवेश किये हैं। पांच से दस हजार रुपये जिससे लेकर कुछ लोगों द्वारा बार्डर पार करा दिया जाता है।

इसके बाद हम लोग ट्रेन से गैंग के लीडर द्वारा बताये शहर में पहुंच कर रेलवे पटरी के पास जंगलों में अपना सामान छिपा देते है। इसके बाद रेकी कर घर को चिन्हित कर रात में लूटपाट की वारदात को अंजाम देते हैं।

घटना करने के बाद हम लोग रेलवे ट्रैक के रास्ते से निकल जाते है। रेलवे ट्रैक पर पुलिस बल व किसी अन्य व्यक्तियों के मिलने की कम सम्भावना होती है।

इसके अलावा हम लोग रास्ता भी नहीं भटकते। घटना के बाद हम लोग अपना सामान लेकर जो भी नजदीकी रेलवे स्टेशन होता है, उस पर खड़ी कही भी जाने वाली ट्रेन से शहर छोड़ देते हैं।

बाद में घटना में मिला सोना चांदी भारत में भी बेच देते हैं। इससे मिलने वाला रुपया पैसा 24 परगना (पश्चिम)के रास्ते उनके घर तक पहुंच जाता है।

परिवार को बंधक बनाते, कई बार दुराचार भी किया

गिरोह के सदस्यों ने पुलिस को बताया कि ये लोग ग्रिल काटकर घर के अंदर प्रवेश करते हैं। फिर परिवार के सदस्यों को बंधक बना लेते थे। गोली चलाने से ये लोग बचते है। कुछ घटनाओं में महिलाओं से दुराचार भी किया। घटना के बाद जो भी ट्रेन निकल रही होती, स्टेशन से उस पर सवार हो जाते हैं।

 

वाराणसी, दिल्ली व मध्य प्रदेश में भी वारदात की

एडीसीपी पूर्वी सै. कासिम आब्दी के मुताबिक तीनों डकैतों के खिलाफ चिनहट में चार मुकदमें और विभूतिखंड व गोमतीनगर में दो-दो, माल में एक मुकदमा है। इन लोगों ने वाराणसी के रोहनिया और मध्य प्रदेश के कटनी में वारदात की।

वहां की पुलिस भी इन्हें ढूंढ़ रही है। इस गिरोह ने दिल्ली, केरल में वारदात करने का दावा किया है। दिल्ली के आनन्द विहार में एक महिला को रॉड से हमला कर घायल किया था। ये गिरोह रेलवे लाइन व स्टेशन के किनारे खाली स्थाना पर झुग्गी बनाकर रहने लगते हैं।

इसमें कुछ सामान्य लोगों को भी जगह दे देते है ताकि किसी को कोई शक न हो। दिन में कूड़ा बीनने व कबाड़ी बनकर बंद मकानों की रेकी करते थे। अधिकतर बुजुर्ग व ज्यादा महिलाओं के रहने वाले घर को निशाना बनाते थे।

इन वारदातों का राजफाश

  • छह सितंबर 2020 कठौता झील के पास एक घर में घुसे। पूरे परिवार को बंधक बनाकर घटना की।
  • 19 दिसंबर 2020 को तीन घरों में वारदात का प्रयास पर गृह स्वामी के जगने पर भाग निकले।
  • 23 दिसंबर 2020 को सहारा अस्पताल के पास रहने वाले गन्ना विभाग के इंजीनियर वाईके श्रीवास्तव उनकी पत्नी और बेटी को बंधक बनाकर लूटपाट।
  • जुलाई 2019 में मध्यप्रदेश के कटनी में एक घर में घुसे युवती को बंधक बनाकर वारदात की।
  • इसके अलावा दिल्ली, केरल, बंग्लूरू में भी डकैती की वारदातें की।