सुजीत हत्याकाण्ड का खुलासा: दो इनामिया हमलावर मुठभेड़ में गिरफ्तार, पैर में लगी गोली


लखनऊ। मोहनलालगंज व्यापार के अध्यक्ष सुजीत पाण्डेय हत्याकाण्ड मामले में कई दिनों से फरार दोनों हमलावरों को आशियाना पुलिस ने मुठभेड़ में गिरफ्तार कर हत्याकाण्ड का खुलासा करने का दावा किया है। गिरफ्तार दोनों आरोपियों का फोटो स्कैच और 50 हजार का इनाम घोषित था।

एसीपी कैंट बीनू सिंह के मुताबिक सुजीत हत्याकाण्ड मामले में फरार दोनों आरोपियों को चेकिंग के दौरान पुलिस ने मुठभेड़ में गिरफ्तार किया है। जवाबी फायरिंग में बदमाशों के पैर में गोली लगी है। जिन्हें उपचार के लिए भर्ती कराया गया है। पूछताछ में आरोपियों ने अपना नाम अरूण कुमार यादव निवासी बंथरा व मुलायम यादव निवासी मोहनलालगंज बताया है। आरोपियों के पास से एक प्लेटिना बाइक ,दो असलहा व कारतूस बरामद हुआ है। बताया जा रहा है कि वर्चस्व को लेकर भू-माफिया मधुकर व उसके साथियों ने शूटरों से वारदात को अंजाम दिलाया था। फिलहाल पुलिस गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ कर आगे की कार्रवाई में जुटी है। गौरतलब हो कि मोहनलालगंज कस्बे निवासी पूर्व प्रधान व मोहनलालगंज व्यापार मंडल के अध्यक्ष सुजीत पांडेय अपनी सफारी कार से 20 दिसंबर को शाम करीब साढ़े पांच बजे मोहनलालगंज से गौरा में लखनऊ-रायबरेली मार्ग पर स्थित अपने ईंट-भ_े पर जा रहे थे। सुजीत जैसे ही भ_े के गेट के पास पहुंचे थे इसी दौरान घात लगाए बाइक सवार दो बदमाशों ने उन पर ताबड़तोड़ फायरिंग झोक दी। सुजीत ने भी लाइसेंसी रिवाल्वर से जवाबी फायरिंग की,लेकिन तब तक बदमाश असलहा लहराते हुए भाग निकले। सुजीत को घायलावस्था में मेदांता अस्पताल में पहुंचाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। बेटे ने अज्ञात हमलावरों के खिलाफ  मुकदमा दर्ज कराया है।

वारदात के पीछे वर्चस्व की लड़ाई सामने आई

पुलिस आयुक्त ने बताया कि सुजीत पांडेय हत्याकांड में दोनों संदिग्ध थे। बिजनौर रोड पर आशियाना पुलिस चेकिंग कर रही थी। बाइक सवार दो संदिग्ध युवकों को देखकर पुलिस ने रोका तो दोनों भागने लगे। पुलिस टीम ने पीछा किया तो आरोपियों ने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्यवाही में दोनों को गोली लगी, जिसके बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। सूत्रों के मुताबिक वारदात के पीछे वर्चस्व की लड़ाई सामने आई है। 

जेल के अंदर से ही रची गई थी हत्‍याकांड की साजिश

गिरफ्तार आरोपितों में रायसिंह खेड़ा माती बंथरा निवासी अरुण कुमार यादव उर्फ छोटू और मरुही मोहनलालगंज निवासी मुलायम यादव शामिल हैं। आरोपितों के पास से एक बाइक, एक तमंचा और एक पिस्टल बरामद की गई है। पूछताछ में आरोपितों ने बताया है कि मोहनलालगंज निवासी मधुकर के कहने पर दोनों ने घटना को अंजाम दिया था। मधुकर फिलहाल जेल में बंद है। मधुकर ने जेल से ही हत्याकांड की साजिश रची थी। माना जा रहा है कि पुलिस जल्द मधुकर को पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी। मधुकर हाल में ही तेल चोरी के मामले में जेल गया था। मधुकर के खिलाफ खाद्य विभाग की ओर से रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.