Lucknow Crime : करोड़ों की टैक्स चोरी मामले में इनामी शराब कारोबारी गिरफ्तार

Spread the love

Lucknow Crime : एसटीएफ ने वांछित आरोपी को लखनऊ से दबोचा

Lucknow Crime : लखनऊ। सहारनपुर के टपरी स्थित को-आपरेटिव लिमिटेड फैक्ट्री में अवैध तरीके से शराब निकालकर करोड़ों की टैक्स चोरी के मुख्य साजिशकर्ता और इनामी आरोपी मनोज कुमार जायसवाल को एसटीएफ  ने लखनऊ से गिरफ्तार किया है।

पिछले साल मार्च में इस धांधली का खुलासा होने के बाद कई आबकारी अधिकारी और कर्मचारी निलम्बित हुये थे।

मामले में वांछित मनोज कुमार पर 25 हजार रुपये इनाम घोषित था।

पिछले साल सितम्बर में एसटीएफ  ने इस धांधली में पूर्व मंत्री अमरमणि त्रिपाठी के साले अश्वनी उपाध्याय को भी गिरफ्तार किया था।

एसटीएफ  के एएसपी विशाल विक्रम सिंह के मुताबिक पिछले साल तीन मार्च को सहारनपुर में छापा मारकर टैक्स चोरी का खुलासा किया गया था।

इसमें आठ लोग गिरफ्तार हुये थे। तब अश्वनी उपाध्याय और मनोज जायसवाल का नाम आया था।

गुरुवार को मूल रूप से बरेली के बारादरी, मॉडल हाउस निवासी मनोज कुमार जायसवाल को आवास-विकास परिषद के सामने ओवरब्रिज के नीचे मॉल एवन्यू से गिरफ्तार किया गया है।

मनोज के पास से एक लाख रुपये, एक मोबाइल और दस्तावेज मिले हैं। मनोज 10 महीने से अलग-अलग जगह पर छिप कर रह रहा था।

वह बीच-बीच में लखनऊ भी आता था। मामले में 30 जुलाई 2021 को ट्रांसपोर्टर सत्यवान शर्मा, 11 अगस्त, 2021 को कम्पनी के टेक्निकल हेड कमल डेनियल, 23 सितम्बर 2021 को सेल्स हेड अश्वनी उपाध्याय को गिरफ्तार किया गया था।

इन सभी पर 25-25 हजार रुपये इनाम था। इस टैक्सी चोरी में 13 लोग जेल भेजे जा चुके हैं।

इस मामले में एसआईटी थाने में एफआईआर दर्ज है। आरोपी को थाना एसआईटी लखनऊ में दाखिल कर आगे की कार्रवाई की जा रही है।

Lucknow Crime : व्यापारी के साथ 25 प्रतिशत की हिस्सेदारी

एसटीएफ  के मुताबिक मनोज की अपने रिश्तेदार और शराब व्यापारी अजय जायसवाल के साथ 25 प्रतिशत की हिस्सेदारी थी।

मनोज सहारनपुर स्थित फैक्ट्री के सेल्स हेड, कम्पनी के मालिक प्रणय जनेजा की फाइनेंस कम्पनी के लाइजनिंग ऑफिसर अश्वनी उपाध्याय के सम्पर्क में था।

एसटीएफ  के मुताबिक वर्तमान में पत्नी के नाम से बरेली और कानपुर में देशी शराब के ठेके है। एक ठेका उसके नाम से भी है।

अपने परिचितों के नाम पर देशी शराब की 19 दुकानें खुलवा रखी हैं। सहारनपुर के टपरी से आने वाली अवैध शराब को अपने ठेके पर ही खपाता था।

इसके अलावा आरोपी ने बरेली में 21 डाउन-टाउन बार एवं रेस्टोरेन्ट भी खोल रखा है।

Lucknow Crime :  ऐसे करते थे टैक्स चोरी

फैक्ट्री के कई कर्मचारी, आबकारी विभाग के अधिकारी-कर्मचारी समेत कई लोग इस गोरखधंधे में मिले थे।

जिस समय शराब की पेटी लेकर ट्रक फैक्ट्री से बाहर निकाली जाती थी, तब एक ही इनवाइस पर दो ट्रकों को बाहर निकाल दिया जाता था।

गेट पास एक ही गाड़ी का बनता था। इससे एक गाड़ी का टैक्स बचा लिया जाता था। एसटीएफ  के मुताबिक मनोज ने कुबूला कि फैक्ट्री के अफसरों,

कर्मचारियों की मिलीभगत से वह लोग नजदीक के डिस्ट्रीब्यूशन प्वाइन्ट पर दो दिन के  एक गेट पास पर दो चक्कर ट्रक के लगवा देते थे।

इसी तरह उन्नाव और कानपुर के चार दिन के एक गेट पास पर दो चक्कर लगाकर करोड़ों की टैक्स चोरी की जाती थी।

इस दौरान ट्रक में लगे जीपीएस बंद कर दिया जाता था। इससे उनकी लोकेशन न पता लगने से ट्रकों के फेरे नहीं पता चल पाते थे।