“ख़बरदार होशियार” त्योहारों के सीजन में ,कार्ड क्लोनिंग ने पकड़ी रफ्तार,जरा बच के बाबू

Spread the love

– सिक्योरिटी गार्ड हटने से लावारिश हो गए एटीएम बूथ
-पुलिस कमिश्नरेट के लिए चुनौती बने साइबर जालसाज

लखनऊ। कोरोना संक्रमण काल के कारण बीते दो साल से लाखों लोगों की रोजी-रोटी पर संकट के बादल छाए हुए हैं। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण लावारिश हो चुके एटीएम बूथों को देखकर ही बनता है।

ATM CARD
NEWS24ON

राजधानी लखनऊ में 24 घंटे एटीएम बूथोंं की रखवाली करने वाले सिक्योरिटी गार्ड को एजेसियों ने कार्यमुक्त कर दिया है। ऐसे में शहर से लेकर गांव के एटीएम बूथों पर जालसाजों की नजर है।

इस वजह है कि त्योहारों की झड़ी आते ही लखनऊ में कार्ड क्लोनिंग के मामले बढ़ते जा रहे हैं। जिसका नतीजा यह है कि साइबर जालसाज हर रोज कार्ड क्लोनिंग से बैंक खाते से रुपये निकाल लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट को चुनौती दे रहे हैं।

ATM CARD
NEWS24ON

पहली घटना : कार्ड की डमी कर निकालते थे पैसा

25 सितम्बर 2021 को सरोजनीनगर पुलिस ने एटीएम कार्ड की क्लोनिंग कर डमी कार्ड से लाखों रुपए उड़ाने वाले गिरोह को गिरफ्तार किया था।

पुलिस को आरोपितों के पास लाखों की रकम, लैपटॉप, 18 डमी एटीएम कार्ड, 13 मैग्नेटिक एटीएम कार्ड, दो डाटा क्लोनिंग सॉफ्टवेयर, तीन एटीएम कार्ड स्वाइप मशीन रीडर व कई मोबाइल बरामद हुए थे। पुलिस ने मामले का खुलासा कर चार आरोपितों को जेल की चाहरदीवारी में कैद कर दिया था।

दूसरी घटना : स्कीमर लगाकर करते थे डाटा चोरी

02 जुलाई 2021 को बीकेटी कोतवाली पुलिस ने एटीएम बूथ मेंं स्कीमर से डाटा हैक कर कार्ड से पैसा निकालने वाले एक गिरोह को गिरफ्तार किया था।

उस वक्त पुलिस ने आराोपितों के पास से कई बैंकों के 39 एटीएम कार्ड, लैपटाप, स्कीमर डिवाइस व अन्य सामान बरामद किया था।

ATM 3
NEWS234ON

तीसरी घटना : कार्ड की क्लोनिंग कर तीन लोगों के खाते से उड़ाई रकम

23 सितम्बर 2021 को वृंदावन कालोनी की बुजुर्ग मंजू रानी के एटीएम कार्ड का क्लोन तैयार कर जालसाजों ने चार बार में 20 हजार रुपए पार कर दिए थे।

इसके बाद जालसाजों ने सरोजनीनगर, हाइडिल कॉलोनी के राजीव कुमार के एटीएम कार्ड का क्लोन बनाकर छह बार में एकाउंट से 45 हजार रुपए की रकम निकाल ली थी।

गाजीपुर के हरिहरनगर के रहने वाले विजय सिंह के खाते से जालसाजों ने 48 हजार रुपए उड़ा दिए थे। जालसाजों ने इन तीन घटनाओं को एक ही दिन में अंजाम दिया था। पीडि़तों ने पीजीआई, सरोजनीनगर और गुडम्बा कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई थी।