Crime In Lucknow : एलडीए की करोड़ों की जमीन के बेचने वाले गिरोह के पांच सदस्य गिरफ्तार

Spread the love

Crime In Lucknow : संदिग्ध एलडीए कर्मियों की खंगाली जा रही कुंडली

Crime In Lucknow : लखनऊ। कूटरचित दस्तावेज तैयार कर एलडीए की करोड़ों की कीमत की जमीन बेचने के मामले में गोमतीनगर पुलिस ने गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस गिरोह में शामिल अन्य आरोपियों की कुंडली खंगाल रही है।

एलडीए के प्रवर वर्ग सहायक केजी साहू ने सितंबर 2021 में मुकदमा दर्ज कराया था। केजी साहू के मुताबिक एलडीए ने जिस प्लाट को विनयखंड में रहने वाले ख्याली दत्त को बेचा था। उसके फर्जी दस्तावेज तैयार कर संतोष यादव ने उस प्लाट का खुद को मालिक बताया। इसके बाद विपुलखंड में रहने वाली लीलावती और रवींद्र प्रजापति के नाम रजिस्ट्री कर करोड़ों रुपये ऐंठ लिए थे।

गोमतीनगर इंस्पेक्टर केशव कुमार तिवारी के मुताबिक मामले में वांछित पांचों आरोपिों को शहीद पथ पुल के नीचे से गिरफ्तार किया गया है। गिरफ्तार आरोपितों में विरामखंड का रहने वाला राममणि पांडेय उनका बेटा ऋ षभ पांडेय,

विनयखंड बेहला का रंजीत कुमार यादव उसका भाई ऋ षि कुमार यादव और बाराबंकी के मिर्जापुर धौराहरा बडहलपुरवा का संतोष यादव है। पुलिस ने आरोपितों के पास से पांच मोबाइल, एक स्कूटी, एक बाइक बरामद की है।

Crime In Lucknow : एलडीए कर्मियों की अहम भूमिका

गिरोह के लोग एलडीए के बाबू और अन्य कर्मचारियों की मदद से जमीन और दस्तावेजों में हेराफेरी का काम करते थे। इंस्पेक्टर ने बताया कि पड़ताल में एलडीए के बाबू मुसाफिर सिंह की भी संलिप्ता सामने आयी है। पांचों आरोपितों ने एलडीए के कर्मचारियों की मिली भगत से विशेष खंड तीन स्थित एक प्लाट का 70 लाख रुपये में सौदा किया,

और रजिस्ट्री के पेपर पर 40 लाख रुपये दिखाए गए थे। इस मामले में भी मुकदमा दर्ज हुआ था। पुलिस ने तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भी भेजा था। इंस्पेक्टर ने बताया कि अन्य आरोपितों की तलाश की जा रही है। गिरोह में जो भी अन्य बचे हैं। उनकी भी गिरफ्तारी की जाएगी।