सचिवालय व F C I में नौकरी का झांसा देकर 25 लाख की ठगी

Spread the love

सरकारी नौकरी लगवाने वाले गिरोह ने तीन से हड़पे 25 लाख
-सचिवालय व एफसीआई में नौकरी का झांसा देकर ठगी
-कोर्ट के आदेश के बाद हजरतगंज कोतवाली में केस दर्ज

लखनऊ । सचिवालय और एफसीआई में नौकरी दिलाने का झांसा देकर जालसाजों ने तीन बेरोजगारों से 25 लाख रुपये हड़प लिए। कोर्ट में एफआईआर दर्ज कराने के लिए अर्जी दायर की गई थी। कोर्ट के आदेश के बाद एक महिला समेत चार के खिलाफ  हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है।

लखीमपुर खीरी निवासी विपिन बिहारी के मुताबिक वह दोस्तों के साथ कचहरी गए हुए थे। उनके साथ सचिन कुमार और एक युवती भी थी। कचहरी में ही विपिन और उनके साथियों की मुलाकात जानकीपुरम निवासी डॉ. राजेश कुमार और दुर्गाशरण मिश्र निवासी सीतापुर से हुई थी। बातचीत के दौरान विपिन और उसके साथियों ने प्राइवेट नौकरी तलाशने का जिक्र किया था।

इस पर आरोपियों ने अखिलेश को बताया कि एफसीआई शहजहांपुर में नियुक्तियां होनी हैं। रुपये खर्च करने पर आराम से भर्ती करा दी जाएगी। सरकारी नौकरी की बात सुन कर विपिन और उनके साथियों ने हामी भर दी थी। इसके बाद उनसे प्रति व्यक्ति आठ लाख 50 हजार रुपये का खर्च आने की बात कही थी। सभी ने दो किस्तों में रुपये दिए थे। पीडि़तों के मुताबिक डॉ. राजेश कुमार रायबरेली मुंशीगंज में चिकित्साधिकारी आयुर्वेद के पद पर तैनात होने का दावा करता था। वहीं दुर्गा शरण मिश्रा ने सचिवालय में तैनात होने की बात कही थी। इंस्पेक्टर श्याम बाबू शुक्ल के मुताबिक पीडि़तों ने कोर्ट में अर्जी डाली थी। आदेश मिलने पर मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है।

जाली नियुक्ति पत्र थमा कर भेजा एफसीआई आफिस
विपिन और सचिन के मुताबिक डॉ. राजेश ने सभी का मेडिकल टेस्ट कराने की बात कहते हुए उन्हें रिपोर्ट दी थी। इसके बाद नियुक्ति पत्र दिया गया था। जिसमें एफसीआई शाहजहांपुर का पता लिखा था। ज्वाइनिंग लेटर लेकर विपिन, सचिन और युवती शाहजहांपुर गए थे। जहां एफसीआई अधिकारियों ने बताया कि उन्हें दिए गए नियुक्ति पत्र जाली हैं। विभाग में कोई भी नियुक्ति नहीं की गई है।
डॉ. राजेश और दुर्गा शरण मिश्र की हकीकत सामने आने पर पीडि़तों ने उनसे हजरतगंज एसबीआई के पास मुलाकात की थी। आरोप है कि रुपये वापस मांगने पर दुर्गा शरण मिश्र और राजेश कुमार ने मारपीट करते हुए उन्हें धमकाया था।