अजीत हत्याकाण्ड: कोर्ट ने डीसीपी समेत पुलिसकर्मियों पर हत्या का केस दर्ज करने पर लगाई रोक

Spread the love

-गिरधारी विश्वकर्मा के एनकाउंटर में मारे जाने का मामला  

लखनऊ। बहुचर्चित अजीत हत्याकांड के मुख्य आरोपी गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ डॉक्टर की पुलिस कस्टडी के दौरान एनकाउंटर में हुई मौत मामले में कोर्ट ने पुलिसकर्मियों को राहत बड़ी राहत दी है।  डीसीपी संजीव सुमन व इंस्पेक्टर चंद्रशेखर सिंह समेत कई पुलिस वालों पर हत्या का मुकदमा दर्ज करने पर रोक लगा दी है।

गौरतलब हो कि मामले में पूर्व में कोर्ट ने कथित मुठभेड़ में शामिल रहे पुलिसकर्मियों के खिलाफ  मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया था। जिस पर राज्य सरकार की तरफ  से एएजी विनोद शाही ने एजीएम कोर्ट में पुलिस का पक्ष रखा जिसे सुनकर सीजेएम ने मुकदमा दर्ज करने पर रोक लगाने का आदेश जारी कर दिया।

पहले दिया था यह आदेश

25 फरवरी को कोर्ट ने एफआईआर दर्ज करने का आदेश देते हुए कहा था कि किसी एक घटना में मात्र एक पक्ष की ओर से ही मुकदमा दर्ज कराए जाने का कोई प्रावधान नहीं है। घटना के दूसरे पक्ष को, जो खुद को घटना से या दर्ज मुकदमे से पीडि़त मानता है, उसे भी अपना पक्ष रखने का पूरा अधिकार है।

सीजेएम ने कथित एनकाउंटर के मामले में सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज कर विवेचना का आदेश इंस्पेक्टर हजरतगंज को दिया था। इतना ही नहीं एफआईआर की प्रति सात दिन में अदालत में प्रस्तुत करने का भी आदेश दिया था।

यह था पूरा मामला

जेल में निरूद्घ बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी मूलरूप से मऊ निवासी पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की छह जनवरी को विभूतिखंड में कठौता चौराहे के पास गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गोलीबारी में उसका साथी मोहर सिंह भी घायल हुआ था। अजीत आजमगढ़ के पूर्व विधायक सर्वेश सिंह उर्फ सीपू सिंह की हत्या में गवाह था।

अजीत के साथी मोहर सिंह ने आजमगढ़ जेल में बंद माफिया धु्रव सिंह उर्फ कुंटू सिंह, गिरधारी और अखंड सिंह समेत अन्य के खिलाफ  साजिश के तहत हत्या की एफआईआर दर्ज कराई थी। मुख्य शूटर गिरधारी को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया था।  गिरधारी तीन दिनों की पुलिस रिमांड था। बताया जा रहा है कि पूछताछ में गिरधारी ने पूर्व सांसद धनंजय समेत कई सफेदपोशों के नाम उजागर किए थे।

16 फरवरी के तड़के रिमांड के आखिरी दिन पुलिस गिरधारी को असलहा बरामद करने के लिए लेकर जा रही थी। पुलिस का दावा है कि गिरधारी ने एक दारोगा की पिस्टल छीनकर पुलिसकर्मियों पर फायरिंग कर भागने की कोशिश की थी। जवाब में पुलिस की ओर से की गई फायरिंग में गिरधारी की मौत हो गई थी।

News24on se Hasan Rana ki khas report

Leave a Reply

Your email address will not be published.