Delta Plus Variant : “सावधान” “सावधान” डेल्टा प्लस वैरिएंट, से सावधान , बरती नहीं सावधानी तो…

Spread the love

Delta Plus Variant : नई दिल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर उतार पर है, लेकिन केंद्र सरकार ने डेल्टा प्लस वैरिएंट को लेकर चेताया है. नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने कहा कि कोरोना वायरस का नया वेरिएंट 2020 के मुकाबले ज़्यादा चालाक हो गया है. पॉल ने कहा कि दूसरी लहर में डेल्टा वैरिएंट की भूमिका बड़ी रही. इस वैरिएंट में अतिरिक्त म्यूटेशन देखा गया है, जिसे डेल्टा प्लस कहा जा रहा है.

उन्होंने कहा कि इस स्ट्रेन की पहचान करके ग्लोबल डाटा सिस्टम को सौंपा गया है. इस स्ट्रेन को मार्च से यूरोप में देखा गया है और 13 जून को इसे सार्वजनिक किया गया. अब हमें ज्यादा सावधानी बरतने की ज़रूरत है. हमें ज्यादा सोशल डिस्टैसिंग का पालन करना होगा. मास्क लगातार पहने रखना होगा. इसके बिना परिस्थिति फिर खराब हो सकती है.

केंद्र सरकार ने बताया कि कोरोना की दूसरी लहर में 3.05 प्रतिशत बच्चों को कोविड संक्रमण हुआ, जबकि पहली लहर के दौरान 3.28 प्रतिशत बच्चों को कोविड संक्रमण हुआ था. स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि पहली लहर में 11 से 20 साल के आयु वर्ग में 8.03 प्रतिशत और दूसरी लहर में 8.5 प्रतिशत संक्रमित हुए थे. स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि दूसरी लहर के दौरान कोविड के 11.62 प्रतिशत मामले 20 साल से कम उम्र वालों में देखने को मिले, जबकि पहली लहर के दौरान यह 11.31 प्रतिशत था.

Delta Plus Variant : ‘संक्रमण दर में 78 प्रतिशत की तीव्र गिरावट’

सरकार ने कहा कि कोविड मामलों की साप्ताहिक संक्रमण दर में 78 प्रतिशत की तीव्र गिरावट देखी गई है और यह दूसरी लहर के दौरान 4 से 10 मई के बीच 21.4 प्रतिशत थी. देश में 9 लाख के करीब सक्रिय मामले बने हुए हैं. 20 राज्यों में 5,000 से कम सक्रिय मामले हैं. अन्य राज्यों में भी सक्रिय मामलों में कमी आ रही है. रिकवरी दर भी बढ़ रही है. पिछले 24 घंटे में देश में 1,17,525 रिकवरी हुई है.

‘वैक्सीन एक अतिरिक्त हथियार’

फिलहाल, ऐसे 20 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश हैं, जहां उपचाराधीन मरीजों की संख्या 5000 से कम है. उन्होंने कहा कि सात मई को सामने आए सबसे ज्यादा मामलों के बाद से दैनिक कोविड मामलों में लगभग 85 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है. मंत्रालय ने कहा कि अब तक देश में कुल 26 करोड़ से ज्यादा लोगों को वैक्सीन की डोज़ दी जा चुकी है. लव अग्रवाल ने कहा कि ‘कोविड संक्रमण के खिलाफ वैक्सीन एक अतिरिक्त हथियार के तौर पर है. मैं सभी से कहूंगा कि वे साफ सफाई का ध्यान रखें और कोविड व्यवहार का पालन करें. मास्क पहने और सोशल डिस्टैंसिंग अपनाएं, जितना संभव हो यात्रा से बचें.’

Leave a Reply

Your email address will not be published.