Black Fungus: ” ब्लैक फंगस” जानें क्या हैं इसके कारण ? इससे कैसे बचें ?

Spread the love

Black Fungus: जानें क्या हैं इसके कारण? इससे कैसे बचें? AIIMS चीफ ने बताया

ब्लैक फंगस यानी ‘म्यूकोर्मिकोसिस’ चेहरे, नाक, आंख या मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है,

जिससे दृष्टि हानि भी हो सकती है.

नई दिल्ली: डायबिटीज से पीड़ित कोविड​​​​-19 (Covid-19) रोगियों को जिन्हें इलाज के दौरान स्टेरॉयड दिया जा रहा है,

उनमें म्यूकोर्मिकोसिस या “ब्लैक फंगस” (Mucormycosis or “black fungus) से प्रभावित होने की आशंका अधिक होती है.

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने बताया कि,

कई अस्पताल इस दुर्लभ लेकिन घातक संक्रमण में वृद्धि की रिपोर्ट कर रहे हैं.

उन्होंने कहा, “म्यूकोर्मिकोसिस बीजाणु मिट्टी, हवा और यहां तक ​​कि भोजन में भी पाए जाते हैं लेकिन वे कम विषाणु वाले होते हैं,

और आमतौर पर संक्रमण का कारण नहीं बनते हैं. कोविड-19 से पहले इस संक्रमण के बहुत कम मामले थे.

अब कोविड के कारण बड़ी संख्या में इसके मामले सामने आ रहे हैं.”

ब्लैक फंगस के मामलों के पीछे एक प्रमुख कारण के रूप में “स्टेरॉयड के दुरुपयोग” को चिह्नित करते हुए, डॉ गुलेरिया ने ,

अस्पतालों से संक्रमण नियंत्रण प्रथाओं के प्रोटोकॉल का पालन करने का आग्रह किया है ,

क्योंकि माध्यमिक संक्रमण – फंगल और बैक्टीरिया – को COVID-19 मामलों में तेजी से देखा जा सकता है, जिससे अधिक मौतें होती हैं.

Black Fungus : Mucormycosis से कैसे लड़ें? क्या करें, क्या नहीं, यहां जानें

डॉ गुलेरिया ने कहा, “इस संक्रमण के पीछे स्टेरॉयड का दुरुपयोग एक प्रमुख कारण है.

मधुमेह, कोविड पॉजिटिव और स्टेरॉयड लेने वाले रोगियों में फंगल संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है.

इसे रोकने के लिए, हमें स्टेरॉयड के दुरुपयोग को रोकना चाहिए.”

एम्स के निदेशक ने कहा, “जैसे-जैसे COVID-19 मामले बढ़ रहे हैं, यह सबसे महत्वपूर्ण है कि हम अस्पतालों में ,

संक्रमण नियंत्रण प्रथाओं के प्रोटोकॉल का पालन करें.

यह देखा गया है कि माध्यमिक संक्रमण – फंगल और बैक्टीरिया – अधिक मृत्यु दर का कारण बन रहे हैं.”

Black Fungus: हरियाणा में ब्लैक फंगस के 40 केस, सरकार ने घोषित किया ‘नोटिफाइड बीमारी’

उन्होंने बताया कि एम्स में इस फंगल इंफेक्शन के 23 मरीजों का इलाज चल रहा है.

उनमें से 20 अभी भी COVID-19 पॉजिटिव हैं और बाकी नेगेटिव हैं.

डॉ गुलेरिया ने कहा कि कई राज्यों में म्यूकोर्मिकोसिस के 500 से अधिक मामले सामने आए हैं.

उन्होंने कहा, “म्यूकोर्मिकोसिस चेहरे, नाक, आंख या मस्तिष्क को प्रभावित कर सकता है,

जिससे दृष्टि हानि भी हो सकती है. यह फेफड़ों में भी फैल सकता है.

” शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने ब्लैक फंगस पर जागरूकता फैलाने के लिए एक ट्वीट किया,

जिसमें इसके कई पहलुओं की अहम जानकारी दी गई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.